Thu. Sep 19th, 2019

महिला व उसकी बच्ची की हत्या

1 min read

 लिव इन रिलेशनशिप में रह रही थी महिला
हत्या के 10 दिनों बाद शॉकपिट से कंकाल बरामद

रांची : राजधानी रांची में मां-बेटी की हत्या का सनसनी खेज मामला सामने आया है। अरगोड़ा थाना क्षेत्र के पिपरटोली में घटना को अंजाम देने वाला आरोपी मोहम्मद शमीम है। मृतकों में रेखा तिग्गा (27) और प्रियांशी तिग्गा (5) शामिल हैं।

रेखा तिग्गा अपने पहले पति की मौत के बाद मोहम्मद शमीम के साथ लिव इन रिलेशन में रह रही थी। शमीम पेशे से राजमिस्त्री है, जबकि रेखा रेजा का काम करती थी। 21 अगस्त से पिपरटोली स्थित मकान से सभी लापता थे।

महिला और उसकी पांच वर्ष की बेटी की मौत इतनी भयावय होगी, इसका अंदाजा किसी को नहीं था। मो शमीम ने महिला व बच्चे की हत्या कर उसके शव को शॉकपीट में डाल दिया।

मृतक के परिजनों व आस पड़ोस को भी उसकी मौत की खबर नहीं थी, बल्कि उसका गायब होना एक रहस्य बन गया था। घटना की जानकारी उस वक्त सामने आयी, जब सोमवार को मकान मालिक घर के पीछे स्थित शॉकपीट से आ रही दुगंर्ध की जांच की। तब जानकारी मिली कि शव पड़े हुए हैं।

घटना की जानकारी पुलिस को दी गयी। मौके पर अरगोड़ा थाना पुलिस, हटिया डीएसपी, सदर डीएसपी समेत कई पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे और मामले की जानकारी ली। वहीं शव को बाहर निकलवाया गया।

दोनों शवों को कंकाल की हालत में बरामद किया गया, जिसे पोस्टमार्टम के लिए रिम्स भेज दिया गया। हत्या के बाद साक्ष्य छुपाने की नीयत से दोनों शवों को शॉकपीट में डालकर स्लैब से ढक दिया गया था।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही हत्या कैसे की गई है, इसका खुलासा हो पाएगा। मामले को लेकर मृतक महिला के भाई वंदना उरांव के बयान पर अरगोड़ा थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई है, जिसमें रातु हुरहुरी निवासी मो शमीम को नामजद आरोपी बनाया गया है। पुलिस आरोपी की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी में जुट गई है।

काम के दौरान हुई थी जान पहचान

मो शमीम और महिला अपनी बेटी के साथ अप्रैल माह से अरगोड़ा स्थित पीपर टोली में रह रही थी। दोनों रातु थाना क्षेत्र के रहने वाले थे महिला की शादी 2014 में रातु थाना क्षेत्र के ही दीपक उरांव से हुई थी।

करीब एक साल बाद सड़क हादसे में महिला के पति की मौत हो गयी। उसके कुछ दिन बाद रेजा की काम करने वाली महिला मो शमीम के संपर्क में आयी। रेखा तिग्गा मो शमीम के साथ रांची के बाहर भी साथ रही है। वहीं रांची में कई जगह किराए के मकान में लिव इन में रही है।

गांव चला गया शमीम

मो शमीम और रेखा को 21 अगस्त को देखा गया था। फिर 22 अगस्त की शाम तक शमीम को देखा गया। उसके बाद मो शमीम को फोन किया तो बताया कि गांव आए हैं।

हालांकि 24 को मो शमीम पीपरटोली स्थित मकान कुछ बचा हुआ सामान लेने आया था। मकान मालिक भैरो तिग्गा को गेट और रुम की चाबी देते हुए कहा कि अब गांव में रहेंगे। इस पर भैरो तिग्गा ने पूछा कि बच्चा और पत्नी कहां है, तो वह बोला कि गांव में दोनों ठीक हैं।

मो शमीम जहां रहता था, उसके कमरे के ठीक बगल में शॉकपिट था। वहां पर काले रंग की बड़ी-बड़ी मक्खियां दिखीं। उसके बाद मकान मालिक तिग्गा ने नगर निगम में काम करने वाली मृतक रेखा के भतीजा अनिल को बुलाया। उसने स्लैब हटाया तो शव मिले। आशंका जतायी जा रही है गला दबाकर मां-बेटी की हत्या कर शव को गलाने के लिए नमक डाल दिया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)