Wed. Oct 28th, 2020

आदिवासी विकास विरोधी नहीं, अपने विनाश के विरोधी हैं : आजसू

1 min read

रांची : विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर रविवार को आजसू प्रवक्ता देवशरण भगत ने रविवार को ऑनलाइन माध्यम से जनता को संबोधित किया। सभी को विश्व आदिवासी दिवस की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि हमें इस दिवस के महत्व को समझना चाहिए।

यह दिवस मूल्यांकन करने का है, चिंतन एवं मनन करने का है कि आज आदिवासी समाज की स्थिति राज्य तथा देश में क्या है। आज का आदिवासी समाज के मूल समस्याओं तथा उन समस्याओं का निदान कर, इस समाज के उत्थान के लिए निरंतर कार्यरत रहने का प्रण लेने का दिन है।

जल, जंगल, जमीन आदिवासियों के जीवन का आधार हैं। प्रकृति ही इनके देवी, देवता हैं तथा इसका संरक्षण करना ही इनका धर्म है। आदिवासी समाज अपनी अस्मिता, अस्तित्व और आत्मनिर्णय के लिए हमेशा संघर्ष करते रही है।

इस समाज ने जब-जब विद्रोह का बिगुल फूंका है तब-तब इसके मूल में स्वशासन तथा स्वतंत्रता ही विद्यमान रही है। हमें विकास की अवधारणा को बदलना होगा।

विकास को व्यवसायिक नजरिये से नहीं, बल्कि मानवीय मूल्यों के आधार पर परिभाषित करने की जरुरत है। झारखण्ड के उलगुलान और उनके नायकों के विचारों को समझना होगा और उनके विचारों के अनुरुप ही इस राज्य को ढालना होगा, तभी हम भगवान बिरसा मुंडा तथा अन्य शहीदों के सपनों के अनुरुप नए झारखण्ड का निर्माण कर सकेंगे।

आदिवासी अपने हक़ और अधिकार के लिए ही बलिदान देते हैं, किसी दूसरे का हक़ छीनने के लिए नहीं। जब हम पूरे देश में आदिवासियों की जनसंख्या का आंकलन करते हैं तो पता चलता है कि देश में आदिवासियों को जनसंख्या में वृद्धि हुई लेकिन इसके विपरीत झारखण्ड राज्य में इनकी जनसंख्या घटी है।

उन्होंने कहा कि 1961 में भारत में आदिवासियों की आबादी 6.9 प्रतिशत थी और 2011 में यह बढ़कर 8.6 प्रतिशत हो गयी। इसके विपरीत झारखण्ड में 1931 में आदिवासियों की आबादी 38.06 प्रतिशत थी और 2011 में यह घटकर 26.02 प्रतिशत हो गयी। झारखण्ड में आदिवासी समाज की घटती आबादी बेहद ही गम्भीर और चिंतनीय विषय है और इसपर तत्काल पहल करने की जरुरत है।

shares
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)