Tue. Sep 22nd, 2020

बिहार में आज सियासत का सुपर संडे, अमित शाह करेंगे वर्चुअल रैली

1 min read

पटना :  बिहार में आज सियासत का सुपर संडे है। सुबह से शाम तक सियासी गहमा-गहमी रहेगी। शाम चार बजे भारतीय जनता पार्टी के पूर्व अध्‍यक्ष व केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह वर्चुअल रैली करेंगे। इसके पहले सुबह सुबह 11 बजे मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार अपनी पार्टी जनता दल यूनाइटेड के वरिष्ठ नेताओं, बूथ अध्यक्षों और सक्रिय कार्यकर्ताओं से बातचीत के छह दिनी कार्यक्रम की शुरुआत करेंगे। उधर, अमित शाह की वर्चुअल रैली के विरोध में राष्‍ट्रीय जनता दल के कार्यकर्ता एवं समर्थक थाली पीटकर मजदूर अधिकार दिवस मनाएंगे तो वाम दलों ने धिक्कार दिवस व धरना का आयोजन किया है।

गृह मंत्री अमित शाह रविार की शाम चार बजे दिल्‍ली के बीजेपी राष्ट्रीय मुख्यालय से ‘बिहार संवाद’ वर्चुअल रैली को संबोधित करेंगे। शाह के मंच पर जहां बिहार के सभी मंत्री मौजूद रहेंगे, वहीं पटना स्थित बीजेपी प्रदेश कार्यालय के अटल बिहारी बाजपेयी सभागार में बने मंच से बिहार प्रभारी भूपेंद्र यादव, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी और प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल संबोधित करेंगे। पटना कार्यालय में पार्टी ने दो बड़े एलईडी स्क्रीन लगाए हैं, जिसे दिल्ली से लिंक दिया गया है। इसी के माधयम से अमित शाह और बिहार के केंद्रीय स्तर के नेता जुड़ेंगे। बाकी लोग अपने घर से ही दिए गए लिंक पर क्लिक करके रैली से जुड़ जाएंगे।

असली रैली जैसी ही है वर्चुअल रैली

बीजेपी भले ही इस रैली को वर्चुअल आयोजित कर रही है, लेकिन सबकुछ असली रैली जैसा ही होगा। जिस तरह से रैली में मंच सजते हैं, उसी तरह दिल्ली और पटना में मंच सजाए गए हैं। दोनों मंचों पर प्रोटोकॉल के मुताबिक छोटे से बड़े नेता बैठेंगे। रैली शुरू होने से पहले स्वागत भाषण से लेकर स्वागत कार्यक्रम भी आयोजित किए जाएंगे।बिहार बीजेपी ने रैली में शामिल होने के लिए सोशल मीडिया लिंक भी जारी कर दिए हैं। वाट्सएप, फेसबुक, एसएमएस, ट्विटर, टेलीग्राम के जरिए वरिष्ठ नेताओं, पदाधिकारियों, जिलाध्यक्षों, मंडल अध्यक्षों के साथ ही बूथ अध्यक्षों को रैली के लिंक भेजे जा रहे हैं

पार्टी कार्यकर्ताओं से संवाद करेंगे नीतीश कुमार

जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी रविवार से लगातार छह दिनों तक वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के माध्यम से अपनी पार्टी के नेताओं एवं कार्यकर्ताओं से मुखातिब होंगे। प्रत्येक जिले में बातचीत का सिलसिला अलग-अलग चलेगा। इसके पहले वह कोरोना काल में जेडीयू के प्रखंड व जिलाध्यक्षों से बात कर चुके हैं। बातचीत का सिलसिला सुबह 11 बजे से आरंभ होगा और शाम पांच बजे तक यह कई चरणों में चलेगा।

वर्चुअल रैली का विरोध करेगी आरजेडी

बीजेपी की रैली के विरोध में आरजेडी ने भी समानांतर कार्यक्रम की घोषणा कर रखी है। बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने अपने कार्यकर्ताओं एवं समर्थकों से ताली एवं थाली पीटकर विरोध जताने का आग्रह किया है। आरजेडी ने अपने कार्यक्रम का नाम दिया है कि मजदूर अधिकार दिवस।आरजेडी के प्रदेश प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी के मुताबिक राजधानी से लेकर गांवों तक विरोध की पूरी तैयारी है। आरजेडी प्रवक्ता चितरंजन गगन ने कहा कि रैली के जरिए बीजेपी-जेडीयू अपनी सरकार की नाकामियों को छुपाना चाहते हैं। इसलिए थाली-लोटा और कटोरी बजाकर आरजेडी लोगों को आगाह करना चाहता है कि यह सरकार आम लोगों की विरोधी है।

पाीएम मोदी को उनकी बात याद दिलाएगी पार्टी

युवा आरजेडी के प्रवक्ता अरुण कुमार यादव ने बताया कि कामगारों को अपराधी बताने वाली सरकार के खिलाफ राज्य के प्रत्येक गली-मोहल्ले, टोले, पंचायत, प्रखंड स्तर पर बैनर-पोस्टर और होर्डिंग लगाकर सरकार की सोच को उजागर किया जा रहा है। इस कार्यक्रम को लेकर तेजस्वी यादव ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 22 मार्च को जनता कर्फ्यू के दिन कोरोना योद्धाओं के सम्मान में लोगों से थाली और ताली बजवाई थी। आरजेडी अपने तरीके से उन्हें इसकी याद दिलाएगा।

जीवन-जीविका को खतरे में डाला मोदी सरकार ने

भारतीय कम्‍युनिस्‍ट पार्टी के राज्य सचिव सत्य नारायण सिंह के मुताबिक कोरोना से लडऩे में विफल सरकार गरीबों एवं मजदूरों के जीवन-जीविका को खतरे में डालकर वर्चुअल रैली कर रही है। सरकार को पहले रोजगार और कोरोना से बचाव की गारंटी करनी चाहिए। भाकपा माले के राज्य सचिव कुणाल, माकपा के राज्य सचिव अवधेश कुमार एवं फारवर्ड ब्लॉक के अमेरिका महतो ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार ने पूरे देश की अर्थव्यवस्था को चौपट कर दिया है। आज गरीब व मजदूर वर्ग जो पीड़ा झेल रहा है, उसके लिए लोग मोदी सरकार को कतई माफ नहीं करेंगे।

shares
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)