Tue. Jan 26th, 2021

कोरोना के कारण चुनावी नतीजे आने में इस बार होगी देर

1 min read

पटना में बूथों की संख्या बढ़ने के कारण 50 राउंड की होगी मतगणना, पहले 28 से 30 राउंड में पूरी हो जाती थी मतगणना

पटना : बिहार में किसकी सरकार बनेगी, इसका जवाब जनादेश आने के बाद ही मिलेगा। 7 नवंबर को अंतिम चरण की वोटिंग खत्म होने के बाद 10 नवंबर को मतगणना होगी । मतगणना के दिन सुबह से ही रुझान आने शुरू हो जाते हैं और दोपहर होते-होते जनादेश की तस्वीर साफ हो जाती है। लेकिन बिहार विधानसभा चुनाव के नतीजे आने में इस बार देरी हो सकती है।

दरअसल, बिहार के अंदर कोरोनाकाल में चुनाव हो रहे हैं और मतगणना के दौरान भी कोविड-19 के नियमों का सख्ती से पालन किया जाएगा। ईवीएम से वोटों की गिनती की प्रक्रिया कोविड-19 के नियम के तहत होगी, इसकी वजह से नतीजे आने में देरी हो सकती है। साथ ही कोरोना के कारण इस बार राज्य में बूथों की संख्या पहले से ज्यादा बढ़ाई दी गई है। इस वजह से भी काउंटिंग में देरी होगी। पटना जैसे जिले में इस बार तकरीबन 50 राउंड की काउंटिंग होगी। पहले पटना में 28 से 30 राउंड की मतगणना होती थी और नतीजे सामने आ जाते थे लेकिन इस बार बूथों की बढ़ी हुई संख्या की वजह से देरी हो सकती है।

केवल पटना की बात करें तो जिले के 14 विधानसभा सीटों के लिए मतगणना के दौरान इस बार 2414 बूथ ज्यादा होंगे। इन बूथों के लिए अलग ईवीएम मशीने होंगी। इस लिहाज से काउंटिंग में ज्यादा वक्त लगेगा। वर्ष 2015 के विधानसभा चुनाव में पटना की 14 विधानसभा सीटों पर 4620 मतदान केंद्र बनाए गए थे लेकिन इस बार आयोग ने मतदान केंद्रों की संख्या बढ़ाकर 7034 कर दी है। कोरोना वायरस के तहत एक हजार से ज्यादा वोटर को एक बूथ पर नहीं रखा गया। पटना के डीएम कुमार रवि के मुताबिक मतगणना के लिए टेबल की संख्या 14 होगी, लेकिन काउंटिंग का राउंड बढ़ जाएगा। इसकी वजह से रुझान तो समय पर मिल जाएंगे लेकिन परिणाम आने में देरी होगी।

shares
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)