Wed. May 27th, 2020

घर में फॉर्म हासिल करने उतरेंगे भारतीय शेर

1 min read

धर्मशाला : न्यूजीलैंड के हाथों वनडे और टेस्ट में मिली शर्मनाक शिकस्त के बाद दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ गुरुवार से शुरू हो रहे तीन मैचों की एकदिवसीय सिरीज के पहले मुकाबले में भारतीय शेरों की नजरें घर में फॉर्म हासिल करने पर टिकी होंगी। भारतीय टीम को हाल ही में न्यूजीलैंड के खिलाफ हुई तीन मैचों की वनडे सिरीज में 0-3 से हार का सामना करना पड़ा था जबकि कीवी टीम के खिलाफ दो मैचों की टेस्ट सिरीज भी उसने 0-2 से गंवायी थी। लेकिन अब कप्तान विराट कोहली के नेतृत्व में भारतीय टीम इस हार को भुलाकर अपनी फॉर्म वापस हासिल करना चाहेगी।

हालांकि टीम को अपने घर में खेलने के बावजूद दक्षिण अफ्रीका से सतर्क रहना होगा जो अपनी जमीन पर आस्ट्रेलिया को 3-0 से धूल चटाने के बाद भारत दौरे पर आयी है। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सिरीज के लिए भारतीय टीम में ओपनर शिखर धवन, आलराउंडर हार्दिक पांड्या और तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार की चोट से उबरने के बाद टीम में वापसी हो गयी है जबकि चोट के कारण न्यूजीलैंड में टेस्ट सिरीज से बाहर हुए रोहित शर्मा अभी तक अपनी चोट से उबर नहीं पाए है और उनका विश्राम जारी है। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ एक बार फिर भारतीय ओपनरों पर टीम को मजबूत शुरूआत दिलाने की जिम्मेदारी होगी। सलामी बल्लेबाज के तौर पर शिखर के लौटने से भारतीय बल्लेबाजी को मजबूती मिलेगी।

लेकिन शिखर के साथ पृथ्वी शॉ और लोकेश राहुल में से कौन उतरता है यह देखना दिलचस्प होगा। हालांकि उम्मीद है कि शिखर और पृथ्वी ओपनिंग करेंगे और इन दोनों बल्लेबाजों पर भारत को अच्छी शुरूआत दिलाने की चुनौती होगी। राहुल ने न्यूजीलैंड में वनडे सिरीज में काफी शानदार प्रदर्शन किया था और वनडे सिरीज में वह मध्यक्रम में खेले थे। शीर्ष और मध्य क्रम में विराट, मनीष पांडे और श्रेयस अय्यर पर जिम्मेदारी रहेगी। राहुल यदि एक बार फिर विकेटकीपरिंग की जिम्मेदारी संभालते हैं तो युवा विकेटकीपर बल्लेबाज रिषभ पंत को बेंच पर बैठना पड़ स•ता है। पंत न्यूजीलैंड दौरे में सिर्फ टेस्ट सिरीज में खेले थे और चारों पारियों में नाकाम रहे थे। पर अपनी जिम्मेदारी संभालने की चुनौती होगी।

कप्तान विराट के पास इस सिरीज में अपनी फॉर्म हासिल करने का मौका रहेगा। विराट का न्यूजीलैंड के खिलाफ प्रदर्शन खासा निराशाजनक रहा था और वह पूरे दौरे में मात्र एक अर्द्वशतक बना पाए थे। विराट ने यह अर्द्वशतक पहले वनडे में बनाया था। विराट का टेस्ट सिरीज में सुपर फ्लॉप प्रदर्शन रहा था। श्रेयस ने हालांकि न्यूजीलैंड दौरे में अपनी प्रतिभा साबित की थी और टीम के लिए अहम योगदान दिया था। मनीष और पंत के पास दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ घरेलू जमीन पर अपनी प्रतिभा साबित करने का अच्छा मौका है।

टीम के लिए राहत की बात है कि कुछ समय से टीम से बाहर चल रहे आॅलराउंडर पांड्या टीम में वापस आ गए हैं। पांड्या ने चोट से उबरने के बाद शानदार वापसी की है और डीवाई पाटिल टी-20 टूनार्मेंट में उन्होंने विस्फोटक पारियां खेली थीं। उनकी इन पारियों के देखते हुए उनसे दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ भी बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद की जा रही है जबकि आलराउंडर रवींद्र जडेजा भी बल्ले से कमाल दिखाने में सक्ष्म हैं, ऐसे में बल्लेबाजी में टीम को अच्छे प्रदर्शन की पूरी उम्मीद है। गेंदबाजी विभाग में मास्टर भुवनेश्वर की वापसी से टीम को बल मिला है और उनके साथ तेज गेंदबाजी का प्रभार जसप्रीत बुमराह पर रहेगा।

दोनों गेंदबाजों पर विपक्षी टीम के बल्लेबाजों को जल्द सिमेटना का दारोमदार होगा जिससे भारतीय टीम मैच में अपना दबाव बनाए रख सके। टीम में तेज गेंदबाज के रुप में नवदीप सैनी भी शामिल हैं और यह देखना होगा कि उन्हें एकादश में शामिल किया जाता है या नहीं। स्पिन विभाग में चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव और लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल को टीम में शामिल किया गया है लेकिन यह संभव है कि जडेजा की मौजूदगी में इन दोनों में से किसी एक खिलाड़ी को अंतिम एकादश में शामिल किया जाएगा।

shares
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)