Tue. May 26th, 2020

भारत की ओर से दिये जा रहे अवसरों का लाभ उठायें : रामनाथ कोविंद

मनीला : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा है कि भारत और फिलीपींस के बीच दशकों से गहरे मित्रतापूर्ण संबंध रहे हैं और उन्होंने फिलीपींस में रह रहे भारतीय समुदाय के लोगों से भारत की ओर से दिये जा रहे नवाचार और अनुसंधान के अवसरों का लाभ उठाने का आह्वान किया है।

कोविंद ने फिलीपींस में भारत के राजदूत जयदीप मजूमदार द्वारा रविवार को आयोजित स्वागत समारोह में भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित करते हुए कहा, ”पिछले कुछ वर्षों में प्रवासियों की संख्या में आश्चर्य ढंग से बढ़ोतरी हुई है। सभी प्रवासी भारतीय फिलीपींस की अर्थव्यवस्था, सामाजिक उत्थान और भारत तथा भारतीयों की छवि बेहतर बनाने में योगदान कर रहे हैं।”

उन्होंने कहा, ”हमारी कोशिश एक नये भारत का निर्माण करने की है जिसके लिए हमें भारतीय प्रवासियों के समर्थन और सहायता की जरूरत है।”

राष्ट्रपति ने प्रवासी भारतीयों से भारत की ओर से नवाचार, निवेश, अनुसंधान तथा शिक्षा के क्षेत्र में दिये जा रहे अवसरों का लाभ उठाने की अपील की। उन्होंने प्रवासियों भारतीयों से ‘मेक इन इंडिया’, ‘डिजिटल इंडिया’, ‘स्किल इंडिया’, ‘गंगा सफाई परियोजना’, ‘स्वच्छ भारत मिशन’, ‘स्मार्ट सिटी’ और जल जीवन मिशन जैसे भारत के प्रमुख पहलों में भागीदारी करने की अपील की।

राष्ट्रपति ने कहा, ”दोनों देशों की अर्थव्यवस्था तीव्र गति से बढ़ रही है। हमारी द्विपक्षीय व्यापार भागीदारी में विस्तार की प्रचूर संभावनाएं हैं।” कोविंद ने आशा व्यक्त की कि भारतीय समुदाय के लोगों की उद्यमिता और पहल से दोनों देशों और अधिक समृद्धि लायी जा सकती है।

गांधी की प्रतिमा का अनावरण

राष्ट्रपति ने आज इससे पहले क्वेजन सिटी के मरियक कॉलेज में मेयर की उपस्थिति में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की आवक्ष प्रतिमा का अनावरण किया। इस दौरान अन्य गणमान्य लोग भी उपस्थित थे। इस मौके पर कोविंद ने कहा कि महात्मा गांधी की यह प्रतिमा भारत के लोगों की ओर से फिलीपींस के लोगों को उपहार है। उन्होंने कहा, ”लेकिन महात्मा गांधी तो सभी समुदाय, समाज और सभी संस्कृति के लोगों के हैं। सतत विकास, शांति और सौहार्द के साझा मार्ग पर हम उनके आदर्शों पर चलते रहें, यही कामना है।” कोविंद अपनी दो देशों की यात्रा के तहत सोमवार सुबह जापान के लिए रवाना होंगे।

shares
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)