Wed. Jan 20th, 2021

पूर्व मुख्यमंत्री फडणवीस सहित कई भाजपा नेताओं की सुरक्षा घटाई गई

1 min read

मुंबई : शिवसेना के नेतृत्व वाली महाविकास आघाड़ी सरकार ने विधानसभा में विपक्ष के नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, केंद्रीय राज्य मंत्री एवं आरपीआई-(ए) के प्रमुख रामदास आठवले, केंद्रीय राज्य मंत्री रावसाहेब दानवे, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटील, राज्यसभा सदस्य नारायण राणे और मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे समेत कई नेताओं की सुरक्षा घटा दी है, जबकि पूर्व केंद्रीय मंत्री शत्रुघ्न सिन्हा और सरकारी अधिवक्ता उज्ज्वल निकम की सुरक्षा बढ़ाई गई है। मुख्य विपक्षी दल भाजपा ने राज्य सरकार के इस निर्णय का कड़ा विरोध किया है। भाजपा प्रवक्ता राम कदम ने कहा कि यह सब बदले की भावना से किया गया है।

गृह मंत्रालय के विश्वस्त सूत्रों ने रविवार को बताया कि राज्य सरकार ने फडणवीस और राज ठाकरे की जेड प्लस श्रेणी की सुरक्षा घटाकर वाई-प्लस की एस्कार्ट सहित सुरक्षा दी है। एम.एल. तहिलयानीव, जी.ए. सानप को मिली जेड श्रेणी की सुरक्षा घटाकर वाई श्रेणी की कर दी गयी है।

फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस और बेटी दिविजा की एस्कार्ट सहित वाई प्लस श्रेणी को सुरक्षा घटाकर एक्स श्रेणी की कर दी गयी है। राज्य के पूर्व गृह राज्य मंत्री दीपक केसरकर की वाई प्लस सुरक्षा हटाकर वाई, पूर्व मंत्री आशीष शेलार और पूर्व राज्यपाल राम नाईक की सुरक्षा वाई-प्लस से वाई श्रेणी की कर दी गयी है।

राज्य सरकार ने अंबरीश अत्राम, चंद्रकांत पाटील, संजय बंडसोड़े, सुधीर मुनगंटीवार, नारायण राणे, रावसाहेब दानवे, राजकुमार बडोले, हरिभाऊ बडोले, राम कदम, प्रसाद लाड, मारोतराव कोवासे, शोभाताई फडणवीस, कृपाशंकर सिंह, माधव भंडारी को दी गई सुरक्षा हटा ली है।

राज्य सरकार ने वस्त्रोद्योग मंत्री असलम शेख की भी सुरक्षा कम कर दी है। इसी तरह विधानपरिषद के सभापति रामराजे निंबालकर, मंत्री विजय वडेट्टीवार, वैभव नाईक, संदीपन भुमरे, अब्दुल सत्तार, दिलीप वलसे पाटील, सुनील केदार आदि को वाई श्रेणी की सुरक्षा दी गई है।

पूर्व मुख्यमंत्री फडणवीस ने कहा कि राज्य में सुरक्षा नेताओं को मिलने वाली धमकी को देखकर दी जाती है। कई ऐसे भी नेता हैं जिनको बिना किसी खतरे अथवा धमकी के ही राज्य सरकार ने सुरक्षा दी है।

shares
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)