Mon. Jan 18th, 2021

थम गया प्रचार का शोर, अंतिम दिन नेताओं और प्रत्याशियों ने झोंकी ताकत

1 min read

बेगूसराय : विधानसभा चुनाव के लिए तीन नवंबर को होने वाले मतदान के लिए रविवार की शाम पांच बजे चुनाव प्रचार थम गया। इसके बाद अब प्रत्याशी और उनके समर्थक गुपचुप तरीके से मतदाताओं को अपने पक्ष में प्रभावित करने के लिए विभिन्न तरीके अपनाएंगे। इधर, चुनाव प्रचार के अंतिम दिन जिले के सभी सातों विधानसभा क्षेत्रों के प्रत्याशियों ने अपनी ताकत झोंक दी। विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं ने अपने-अपने प्रत्याशी के समर्थन में ताबड़तोड़ रैली कर जनता को जागरूक किया। सभी प्रत्याशियों ने जुलूस निकालकर रोड शो किया। इस दौरान ना केवल कोरोना गाइडलाइन तार-तार होता, बल्कि ट्रैफिक नियम की भी धज्जियां उड़ गई। लेकिन प्रशासनिक स्तर पर इसके लिए कोई पहल नहीं की गई, जिससे आम लोगों में काफी आक्रोश देखा गया। जिला मुख्यालय में लोग दिन भर जाम से परेशान रहे।

चुनाव प्रचार के अंतिम दिन बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने बछवाड़ा विधानसभा क्षेत्र में भाजपा प्रत्याशी के लिए जनसभा को संबोधित किया। सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने राज्य के विकास के एजेंडे के साथ राजद एवं वामपंथ के एजेंडे पर जमकर प्रहार किया। इसके साथ ही सांप नाथ एवं नागनाथ की जोड़ी के बदले भाजपा ने विकास के लिए भोलेनाथ को जिताने का आह्वान करते हुए कहा कि बछवाड़ा की बदहाली के लिए यही ताकतें आजादी के बाद से लेकर आज तक जिम्मेदार हैं।

फिल्म अभिनेता मनोज तिवारी ने रविवार को बेगूसराय विधानसभा क्षेत्र के नीमा चांदपुरा में भाजपा प्रत्याशी के पक्ष में जनसभा को संबोधित किया। जदयू के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौधरी ने अपनी टीम के साथ बखरी विधानसभा क्षेत्र के प्रत्याशी के पक्ष में गढ़पुरा में जनसभा को संबोधित किया।

लोजपा सुप्रीमो चिराग पासवान ने तेघड़ा विधानसभा क्षेत्र से प्रत्याशी ललन कुमार के पक्ष में सभा को संबोधित करते हुए एक बार फिर नीतीश कुमार पर जोरदार हमला किया तथा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को दस नवम्बर के बाद जेल भेजे जाने की बात कही। लोजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सूरजभान सिंह मटिहानी विधानसभा क्षेत्र के प्रत्याशी राजकुमार सिंह के रोड-शो में शामिल हुए।

उन्होंने कहा कि मटिहानी की धरती वीर विहीन नहीं हुई है, जो एक घमंडी जनप्रतिनिधि के चैलेंज का प्रतिकार नहीं कर सके। जब रावण का अहंकार टूट गया, तो फिर एक अहंकारी विधायक को जनता कैसे बर्दाश्त कर सकती है, उसे भी मटियामेट होना ही है। उसके अहंकार पर मटिहानी के बेटे राजकुमार सिंह ने अंतिम कील ठोकने की तैयारी जनता मालिक के भरोसे की है। इसके अलावा बखरी , साहेबपुर कमाल , चेरिया बरियारपुर , बेगूसराय , मटिहानी , तेघड़ा एवं बछवाड़ा विधानसभा क्षेत्रों के अधिकतर दलीय एवं निर्दलीय प्रत्याशियों ने भी रोड-शो कर अपनी ताकत का प्रदर्शन किया।

shares
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)