Thu. Aug 13th, 2020

वकील अत्यावश्यक सेवा में नहीं : हाई कोर्ट

1 min read

मुंबई :  मुंबई हाई कोर्ट ने गुरुवार को महत्वपूर्ण निर्णय देते हुए कहा कि वकील अत्यावश्यक सेवा में नहीं आते हैं। इसलिये वकीलों को अत्यावश्यक सेवा में शामिल कर्मचारियों जैसा लाभ व छूट नहीं मिल सकती।

मुंबई वकील संघ की ओर से हाई कोर्ट में याचिका दायर कर उन्हें सरकारी कर्मचारियों जैसे लोकल ट्रेन से आने-जाने की छूट दिये जाने की मांग की थी। वकील संघ का कहना था कि वह सभी भी अत्यावश्यक सेवा के अंतर्गत आते हैं। इसलिये उन्हें भी सरकारी, मेडिकल कर्मियों जैसी सुविधायें मिलनी चाहिये।

इस मामले की सुनवाई करते हुए न्यायाधीश एस.एस. शिंदे व न्यायाधीश माधव जामदार ने कहा कि राज्य सरकार ने वकीलों को अत्यावश्यक सेवा देने वालों में शामिल नहीं किया है। इसी प्रकार महाराष्ट्र अत्यावश्यक सेवा अधिनियम 2017 के अनुसार वकीलों की सेवा अत्यावश्यक सेवा नहीं है।

इसलिये वकीलों को अत्यावश्यक सेवा के अंतर्गत आने वाले कर्मचारियों जैसी सुविधा नहीं दी जा सकती है। हाई कोर्ट ने वकील संघ की याचिका खारिज कर दिया है।

shares
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)