Wed. Aug 12th, 2020

सियासी गर्मी के बीच जैसलमेर की तपिश विधायकों में बढ़ा रही घबराहट

जैसलमेर/जयपुर : राजस्थान में सियासी उठापटक के बीच जयपुर से जैसलमेर स्थानांतरित किए गए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत खेमे के विधायकों ने रविवार की सुबह योग और कसरत के साथ दिन की शुरुआत की। कुछ विधायक सीमा गृह रक्षा दल के मैदान में मार्निंग वॉक पर निकले।

इसके बाद नाश्ते की टेबल पर प्रदेश के राजनीतिक समीकरणों की चर्चा हुई। सुबह एक एंबुलेंस सूर्यगढ़ रिसार्ट पहुंची। एम्बुलेंस में आए चिकित्सा र्किमयों ने विधायकों का रुटीन चेकअप किया। मौसम में बदलाव की वजह से शनिवार को कुछ विधायकों को घबराहट महसूस होने की शिकायत थी। शनिवार को भी इन विधायकों की सेहत जांची गई।

विधायकों से मुलाकात के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का दोपहर बाद जैसलमेर पहुंचने का कार्यक्रम है। जबकि, राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला दिल्ली के लिए रवाना होंगे। गहलोत खेमे के सभी विधायकों को जैसलमेर शहर से 15 किलोमीटर दूर सूर्यगढ़ रिसोर्ट में ठहराया गया है।

जबकि, मंत्रियों को दूसरे होटल गोरबंद में रखा गया है। सूर्यगढ़ रिसोर्ट शहर से बाहर होने की वजह से यहां मोबाइल नेटवर्क की समस्या है। ऐसे में विधायकों को अपने परिवार और काम से संबंधित बात करने के लिए परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। सभी को अपने कमरों से बाहर आकर बात करनी पड़ रही है। इस बीच तेज गर्मी भी उन्हें परेशान कर रही है।

शनिवार रात सूर्यगढ़ पैलेस में विधायक राजेंद्र पारीक ने कुछ विधायकों के साथ ‘मेरा दर खुला है खुला ही रहेगा तुम्हारे लिए…’ गाना गाकर राजनीतिक संकेत दिए। सीएम गहलोत ने शनिवार को जैसलमेर में पत्रकारों से बातचीत के दौरान केंद्र सरकार पर हमला बोला था। उन्होंने कहा था कि भाजपा के मुंह खून लग चुका है। कर्नाटक व मध्यप्रदेश में वे ऐसा कर चुके हैं और अब राजस्थान में भी यही कर रहे हैं। उन्होंने यह भी दोहराया था कि पायलट व सर्मिथत विधायकों को यदि हाईकमान माफ करता है तो मैं भी सबको गले लगा लूंगा। मेरा कोई अहम का टकराव नहीं है।

shares
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)