Mon. Oct 26th, 2020

भारत की अखंडता व संप्रभुता सर्वोच्च, व्यर्थ नहीं जाएगा जवानों का बलिदान : प्रधानमंत्री

1 min read

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गलवान घाटी में भारत-चीन के बीच बने तनाव की स्थिति में देश को आश्वस्त करते हुए कहा कि भारत की अखंडता और संप्रभुता सर्वोच्च है और इसकी रक्षा करने से हमें कोई भी रोक नहीं सकता।

मोदी ने बुधवार को 15 राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक के दौरान गलवान घाटी में शहीद हुए वीर सैनिकों को श्रद्धांजलि दी। प्रधानमंत्री के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग से हुई बैठक में शामिल गृहमंत्री अमित शाह और राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों ने शहीद जवानों को दो मिनट का मौन धारण कर श्रद्धांजलि अर्पित की।

बैठक की शुरुआत में प्रधानमंत्री ने कहा, ‘मैं देश को भरोसा दिलाना चाहता हूं कि हमारे जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। हमारे लिए भारत की अखंडता और संप्रभुता सर्वोच्च है और इसकी रक्षा करने से हमें कोई भी रोक नहीं सकता। भारत शांति चाहता है लेकिन भारत उकसाने पर हर हाल में यथोचित जवाब देने में सक्षम है।’

उन्होंने कहा कि किसी को भी हमारे धैर्य की परीक्षा नहीं लेनी चाहिए। जब भी भारत को उकसाया गया है, तो भारत ने जवाब दिया है। चाहे वह किसी भी तरह की स्थिति क्यों न हो।

shares
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)