Wed. Oct 28th, 2020

रोड टैक्स में हुई भारी बढ़ोतरी से टूटी ट्रक व्यवसायियों की कमर

फिटनेस प्रमाण पत्र के नाम पर खड़े हो गये सैकड़ों ट्रक

रांची : रोड टैक्स में हुई बढ़ोत्तरी की मार झेल रहे ट्रक व्यवसायियों के सामने अब फिटनेस का रोना आन पड़ा है। एक ओर एमभीआई का डंडा और दूसरी और टैक्स की मार। इन दोनों की मार झेल रहे ट्रक व्यवसायियों को अब यह धंधा मंदा नजर आ रहा है। ट्रक व्यवसायियों के सामने अब इस व्यवसाय को छोड़ने के अलावा दूसरा कोई रास्ता नहीं बचा है।

आलम तो अब ये है कि इस व्यवसाय से जुड़े लोगों का कहना है कि किसी को दुखी देखना है तो एक ट्रक खरीद कर दे दीजिये। कई वर्षों से यह व्यवसाय ठप पड़ा हुआ है। सैकड़ों ट्रकों को फिटनेस प्रमाण पत्र के अभाव में खड़ा कर दिये गये हैं। कई लोग ट्रक व्यवसाय को छोड़ अन्य व्यवसाय में जाने लगे हैं, तो कई ने सैकड़ों ट्रकों को सस्ते दर पर कबाड़ी में बेच दिया गया।

आमदनी अठन्नी, खर्चा रुपैया

रांची गुडस ट्रांसपोर्ट एसोशिएसन के पृूर्व अध्यक्ष पवन शर्मा ने बताया कि एमभीआई के द्वारा लगातार सैकड़ों ट्रकों को रोका जाता है। कभी फिटनेस के नाम पर तो कहीं ड्राइवर एथ्रोराइजेशन के नाम पर। एक ओर एमभीआई के द्वारा फिटनेस नहीं दिया जा रहा है, तो दूसरी ओर परमिट का झमेला।

वाहनों के टैक्स में इतना इजाफा कर दिया गया कि ट्रक मालिक वाहन का इंश्योरेंस कराये कि मासिक लोन दें। इस व्यवसाय में आमदनी अठन्नी और खर्चा रुपया वाली बात हो गयी है।

shares
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)