Sun. May 31st, 2020

काश! गर्व से कह पाते- हमने गौरैया को मरने नहीं दिया

1 min read
गौरैया बिन आंगन सूना

आज से एक डेढ़ दशक पूर्व तक हमारे घरों में एक नन्ही प्यारी चिड़िया की खूब आवाजाही हुआ करती थी। वह बच्चों की मीत थी तो महिलाओं की चिर सखी भी। उसकी चहचहाहट में संगीत के सुरों की मिठास थी और हवा की ताजगी का सुवासित झोंका भी। नित्यप्रति प्रात: उसके कलरव से लोकजीवन को सूर्योदय का संदेश मिलता और वह अपने नेत्र खोल दैनन्दिन जीवनचर्या में सक्रिय हो उठता। विद्यार्थियों के बस्ते खुलते और किताबें बोलने लगतीं। कोयले से पुती काठ की पाटियों में सफेद खड़िया से सजे अक्षर उभरने लगते। बैलों के गले में बंधी घंटियों की रूनझुन के साथ कंधे पर हल रखे किसानों के पग खेतों की ओर चलने को मचल पड़ते और महिलाएं गीत गाती हुई जुट जातीं द्वार-आंगन बुहारने में।

और तभी आंगन में उतर आता कलरव करता चिड़ियों का झुण्ड। रसोई रांधने के लिए अनाज पछोरते समय सूप के सामने वह फुदकती रहती। सूप से गिरे चावल के दाने चुगती चिड़िया लोक से प्रीति के भाव में बंधी निर्भय हो सूप में भी बैठ सहजता से अपना भाग ले जाती। इतना ही नहीं, वह रसोई में भी निर्बाध आती-जाती और पके चावल की बटलोई में बैठ करछुल में चिपका भात साधिकार ले उड़ती। यह प्यारी चिड़िया कोई और नहीं अपनी गौरैया थी, हां, अपनी घरेलू गौरैया। वह परिवार की एक सदस्य ही थी।

लोकधर्मी कवि घाघ से लेकर आधुनिक कवियों तक को गौरैया ने प्रभावित किया है। तभी तो प्रगतिशील कवि शिवमंगल सिंह ‘सुमन’ कह उठते हैं – ‘मेरे मटमैले आंगन में, फुदक रही प्यारी गौरैया। लोक मे बहुप्रचलित एक काव्यात्मक उक्ति गौरैया के व्यवहार के द्वारा प्राकृतिक परिवर्तन के महत्व को ही रेखांकित करती है- ‘कलसा पानी गरम है, चिड़िया नहावै धूर। चींटी लै अण्डा चढ़ै, तौ बरसा भरपूर’।

संकट में गौरैया का जीवन

लेकिन आज इस गौरैया के जीवन पर संकट आ खड़ा हुआ है। उसके अस्तित्व पर खतरा मंडरा रहा है और हम है कि बेसुध सोये पड़े हैं । यूरोप, एशिया, अमेरिका, अफ्रीका, न्यूजीलैण्ड और आस्ट्रेलिया में पायी जाने वाली घरेलू गौरैया की विश्व में छह प्रजातियों की पहचान हुई है। नगरों, कस्बों, गांव, खेत-खलिहान में मिलने वाली गौरैया को ‘हाउस स्पैरो’ कहा जाता है। एक आकलन के अनुसार विश्व में पाये जाने वाले पक्षियों में गौरैया की संख्या सर्वाधिक है। हल्के भूरे-सफेद रंग के पंखों, भूरी चोंच और पीले पैरों वाली 25-30 ग्राम वजनी झुण्ड में रहने वाली इस चिड़िया को लगभग हर तरह की जलवायु पसंद है। एक समय में तीन बच्चे/अण्डे होते हैं। भोजन की तलाश में ये प्रतिदिन दो-तीन मील का चक्कर काटते हैं। अनाज के दाने, घास के बीज, छोटे कीड़े इनका प्रिय भोजन है लेकिन रोटियों के टुकड़े, ब्रेड भी ये चाव से खा लेते हैं।

गौरैया चढ़ी विकास की भेंट

तथाकथित विकास और प्रकृति के अत्यधिक दोहन-शोषण ने घरेलू गौरैया के प्राकृतिक पयार्वास को छिन्न-भिन्न कर दिया है। बहुमंजिली इमारत के निर्माण और जंगलों की कटान से इसे घोंसले बनाने को उपयुक्त स्थान नहीं मिल पा रहा। शहरी कॉलोनियों में पेड़ दिखते नहीं, छायादार निरापद जगह नहीं बची जहां वे अपने नीड़ का निर्माण कर सकें। सुपर मार्केट-मॉल संस्कृति के कारण घर-परिवारों में पैकेटबन्द अनाज और अन्य भोजन सामग्री आने से चुगने को दाने मिलना दूभर हो गया।

मोबाइल टावर से निकलने वाली तरंगों ने इनकी प्रजनन क्षमता को कम कर दिया है। इस कारण इनके अण्डे पूर्णरूप से निषेचित नहीं हो पाते हैं और अण्डों से अविकसित बच्चों का जन्म हो रहा है। इन तरंगों नें उनकी दिशाशोधन प्रणाली को विकृत कर दिया है। फलत: ये बेजुबान पक्षी अपने राहों से भटक रहे हैं। शहरों में बिजली के तारों के जाल में अक्सर उलझ कर प्राण गंवा बैठते हैं। चील, बाज, कौवा, कुत्ता, सियार, सांप जैसे प्राकृतिक दुश्मन इनके अण्डों और चूजों को खा जाते हैं। बच्चे भी गौरैया और इसके छोटे बच्चों को पकड़ लेते हैं और इनके पंखों पर रंग लगा देते हैं जिसके कारण इन्हे उड़ान भरने में खासी परेशानी होती है। बच्चे इनके पैरों में धागा बांध देते हैं जिस कारण धीरे धीरे वहां से पैर कमजोर होकर टूट जाता है, अन्तत: वह मर जाती है।

रासायनिक उर्वरक, कीटनाशक भी जिम्मेदार

किसानों द्वारा रासायनिक उर्वरकों एवं कीटनाशकों के अत्यधिक प्रयोग से अन्न, जल और मिट्टी प्रदूषित हुई है। कीड़ों के मर जाने से फसलें भले ही सुरक्षित हुई हों, लेकिन इसने गौरैया के प्राकृतिक आहार कीड़ों को उनसे छीन लिया है। बच्चे च्यूंगम खाकर जहां कहीं भी फेंक देते हैं और चिड़िया इसे कोई खाद्य पदार्थ समझ कर ज्यों ही चुगती है तो उसकी चोंच चिपक जाती है और छटपटाकर प्राण त्याग देती है। ग्लोबल वार्मिंग के बढ़ते ताप के कारण भी गौरैया अपने आप को कमजोर महसूस कर रहे हैं। भोजन एवं जल की कमी, घोंसला बनाने के लिए उचित स्थान का न मिल पाने से पिछले दो दशकों से इनकी संख्या में लगातार भारी गिरावट देखने में आ रही है।

संख्या में 70-80 प्रतिशत कमी

भारत ही नहीं वरन सम्पूण विश्व में विभिन्न अनुसंधानों से प्राप्त निष्कर्ष बताते हैं कि इनकी संख्या में 70-80 प्रतिशत कमी हुई है। पौधों और पशु-पक्षियों के संरक्षण के लिए सन् 1963 में गठित अन्तर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ ने भी घरेलू गौरैया की घटती संख्या पर चिंता व्यक्त करते हुए इसे ‘लाल सूची’ में रखा है और इसे संकटग्रस्त पक्षी घोषित किया है। ब्रिटेन की ‘रॉयल सोसायटी आॅफ प्रोटेक्शन आॅफ बडर््स’ भारत और विश्व के विभिन्न हिस्सों में वर्षों तक अध्ययन कर गौरैया को बचाये जाने के उपाय खोजने पर बल दिया है। ब्रिटेन, फ्रांस, इटली, जर्मनी में इनकी संख्या बहुत तेजी से घटी है। नीदरलैण्ड ने तो इसे ‘दुर्लभ प्रजाति की श्रेणी’ में रखकर बचाने का संकल्प दिखाया है।

बचाने के भी हो रहे प्रयास

मो. दिलावर ने भारत में गौरैया के संरक्षण व सम्वर्द्धन के लिए ‘राइज फार द स्पैरोज’ अर्थात ‘गौरैया के लिए जागो’ अभियान चलाया। इन सब प्रयासों के चलते 20 मार्च 2010 को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर पहली बार ‘विश्व गौरैया दिवस’ मनाया गया और दिल्ली राज्य सरकार ने 15 अगस्त 2010 को गौरैया को दिल्ली का ‘राज्य पक्षी’ घोषित किया। भारतीय डाक विभाग ने 9 जुलाई 2010 को 5 रुपये मूल्य का डाक टिकट जारी किया। गौरैया पर अमेरिका, कनाडा और बांग्लादेश ने भी विभिन्न मूल्य वर्ग के डाक टिकट जारी किए हैं। 2014 में घरेलू गौरैया बचाओ अभियान के अन्तर्गत डाक विभाग ने गौरैया के चित्र का विशेष आवरण जारी कर गौरैया बचाओ मुहिम में जन सामान्य की सक्रिय भागीदारी की इच्छा व्यक्त की थी।

गौरैया को बचाने के लिए हम सभी को आगे आना होगा। अभियानों और गोष्ठियों से केवल जागरूकता लाई जा सकती है। लेकिन इतना ही पर्याप्त नहीं होगा। जरूरत ठोस कदम उठाने की है। हमें सामूहिक जिम्मेदारी निभानी होगी। अपने घरों और पास-पड़ोस में छायादार वृक्ष लगाने होंगे। प्लाई, गत्तों के टुकड़ों से घोंसले बनाकर दीवारों में टांग कर उन्हें वहां आने का आमंत्रण दें। छतों पर बर्तनों में पानी रखकर और अनाज के दाने बिखेर कर हम इसका साथ पा सकते हैं। अगर हम अभी नहीं चेते तो गिद्ध की भांति गौरैया को भी खो देंगे। यह हमारा दायित्व है कि हम पुरखों से प्राप्त इस पक्षी को आगामी पीढ़ी के हाथों में सौंपते हुए सर उठाकर कह सकें कि हमने से इसे मरने नहीं दिया। तो आज ही शुरू करें कल कहीं बहुत देर न हो जाये।

shares
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)