April 23, 2021

Desh Pran

Hindi Daily

पालघर में साधुओं और ड्राइवर की हत्या की जांच सीबीआई को सौंपने की मांग पर सुनवाई टली

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट ने पालघर में 2 साधुओं और उनके ड्राइवर की हत्या की जांच सीबीआई को सौंपने की मांग पर सुनवाई एक हफ्ते के लिए टाल दी है। सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता के दूसरे केस में व्यस्त होने के चलते सुनवाई टल गई है।

महाराष्ट्र सरकार ने कोर्ट को बताया कि इस मामले में पुलिस चार्जशीट दाखिल कर चुकी है। लापरवाही बरतने वाले पुलिसकर्मियों पर भी कार्रवाई की गई है। महाराष्ट्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में नई स्टेटस रिपोर्ट दाखिल कर कहा है कि 15 पुलिस वालों को वेतन में कटौती की सजा दी गई है।

नए हलफनामे में महाराष्ट्र सरकार ने कहा है कि एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी को बर्खास्त किया गया है और दो अनिवार्य सेवानिवृत्ति पर भेजे गए हैं। महाराष्ट्र सरकार ने हलफनामे में कहा है कि 252 व्यक्तियों के खिलाफ चार्जशीट दायर की गई है और 15 पुलिसकर्मियों पर वेतन कटौती के साथ जुर्माना लगाया गया है।

पिछले 6 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र सरकार से पूछा था कि उन पुलिस वालों के खिलाफ जांच में क्या निकाला, जिनकी मौजूदगी में पालघर में भीड़ ने दो साधुओं की हत्या की। कोर्ट ने पूछा था कि महीनों गुजर जाने के बाद भी राज्य सरकार ने उन पुलिसकर्मियों के खिलाफ अभी तक क्या कार्रवाई की।

कोर्ट ने महाराष्ट्र पुलिस से इस मामले में दायर चार्जशीट भी पेश करने का निर्देश दिया था। सुनवाई के दौरान सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा था कि अगर चार्जशीट देखने के बाद कोर्ट को मुंबई पुलिस की अपराध में मिलीभगत नजर आती है, तब सीबीआई जांच होनी चाहिए।

याचिका शशांक शेखर झा ने दायर की है। पिछले 11 जून को सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र सरकार, केंद्र सरकार औऱ सीबीआई को नोटिस जारी किया था। मृत साधुओं के रिश्तेदारों और जूना अखाड़ा के साधुओं ने याचिका दाखिल की है। याचिकाओं में कहा गया है कि महाराष्ट्र सरकार और पुलिस की जांच पर भरोसा नहीं है, क्योंकि इस मामले में शक के दायरे में पुलिस ही है।

एक मई को भी सुप्रीम कोर्ट ने इस हत्या के मामले में महाराष्ट्र सरकार से रिपोर्ट तलब की थी। याचिका में घटना में पुलिस की भूमिका पर सवाल उठाते हुए मामले की जांच राज्य सीआईडी से वापस लेने की मांग की गई है। सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने जारी जांच पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था।

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)