Hajj 2024:  मक्का में आसमान से बरस रही आग, गर्मी के कारण 1000 से ज्यादा हज यात्रियों की गई जान

1 min read

Hajj 2024 Death: भीषण गर्मी के बीच आयोजित हज यात्रा में मरने वालों की संख्या 1,000 से अधिक हो गई है. इनमें से आधे से अधिक गैर-पंजीकृत श्रद्धालु थे. एएफपी के मुताबिक लगभग 10 देशों ने वार्षिक तीर्थयात्रा के दौरान 1,081 मौतें  होने की सूचना दी है. मृत तीर्थयात्रियों को दफनाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है. नियमों के तहत उन्हें सऊदी अरब में ही दफनाया जा रहा है.एएफपी के मुताबिक सऊदी अरब में एक डिप्लोमेट ने बुधवार को कहा कि हज यात्रा के दौरान 68 भारतीय नागरिकों की मौत हो गई. नाम न बताने की शर्त पर बात करने वाले उसने कहा, ‘हमने लगभग 68 लोगों की मौत की पुष्टि की है… कुछ की मौत प्राकृतिक कारणों से हुई है और हमारे पास कई बुजुर्ग तीर्थयात्री भी थे। और कुछ की मौत मौसम की स्थिति के कारण हुई है, ऐसा हमारा अनुमान है.’

हज इस्लाम के पांच स्तंभों में से एक है और सभी मुसलमानों को कम से कम एक बार हज अवश्य करना चाहिए.

हज का समय चंद्र इस्लामी कैलेंडर (Lunar Islamic calendar) के अनुसार निर्धारित होता है, इस साल फिर से यह भीषण गर्मी के बीच पड़ी. राष्ट्रीय मौसम विज्ञान केंद्र ने मक्का की ग्रैंड मस्जिद में इस सप्ताह 51.8 डिग्री सेल्सियस (125 फ़ारेनहाइट) का उच्चतम तापमान दर्ज किया.हज यात्रा के दौरान कई कारणों से तीर्थयात्रियों की मौत हो जाती है जिसमें भीड़ से कुचल कर, बीमारी या गर्मी से होने वाली मौतें शामिल हैं. इस बार रिकॉर्ड तोड़ गर्मी को अधिकतर मौतों की वजह बताया जा रहा है.

हालांकि सऊदी अरब ने आधिकारिक तौर पर मौतों की जानकारी नहीं दी है, उसने सिर्फ रविवार को ही ‘भीषण गर्मी’ से निढाल होने वालों के 2700 से अधिक मामलों की सूचना दी है.एएफपी के मुताबिक एक अरब राजनयिक ने बताया कि गुरुवार को रिपोर्ट की गई नई मौतों में 58 मिस्र के लोग शामिल हैं. उन्होंने कहा कि मरने वाले 658 मिस्रियों में से 630 अनरजिस्टर्ड तीर्थयात्री थे.डिप्लोमेट ने कहा कि मिस्र के तीर्थयात्रियों की मौत का मुख्य कारण गर्मी है, जिससे उच्च रक्तचाप और अन्य समस्याओं से जुड़ी जटिलताएं पैदा हो रही हैं.

हर साल हजारों तीर्थयात्री अनियमित चैनलों के जरिए हज करने की कोशिश करते हैं क्योंकि वे आधिकारिक हज वीजा के लिए अक्सर महंगी प्रक्रियाओं का खर्च नहीं उठा सकते.इन गैर-बुक तीर्थयात्रियों के लिए जोखिम अधिक होता है. ये लोग हज रूट पर सऊदी प्रशासन की ओर से प्रदान की गई एयर-कंडीशन सुविधाओं का उपयोग नहीं कर सकते.एएफपी के मुताबिक इस महीने की शुरुआत में, सऊदी अधिकारियों ने कहा था कि उन्होंने हज से पहले मक्का से सैकड़ों हज़ारों अपंजीकृत तीर्थयात्रियों को निकाल दिया था लेकिन ऐसा प्रतीत होता है कि कई लोगों ने पिछले शुक्रवार से शुरू हुई मुख्य रस्मों में भाग लिया.

 

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours