Sat. Dec 14th, 2019

विंडीज दौरे से हटे धौनी सियाचिन में कर सकते हैं ट्रेनिंग

21.07.2019

नयी दिल्ली/ मुंबई :  अपने फैसलों से सबको चौंकाने के लिये मशहूर पूर्व भारतीय कप्तान और अनुभवी विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी ने अगले महीने होने वाले वेस्टइंडीज दौरे से खुद को अलग कर लिया है और अब वह संभवत: सियाचिन में सेना के साथ ट्रेनिंग कर सकते हैं। धौनी के इस फैसले ने चयनकर्ताओं का सिरदर्द खत्म कर दिया है जिन्हें अब यह फैसला नहीं लेना होगा कि धौनी को विंडीज दौरे से बाहर कर दिया गया है। पूर्व कप्तान ने रविवार को इस दौरे के लिये मुंबई में होने वाली चयनकर्ताओं की बैठक से पूर्व ही खुद को अनुपलब्ध करार दिया है। धौनी प्रादेशिक सेना की पैराशूट रेजीमेंट में मानद लेफ्टिनेंट कर्नल के पद पर हैं और उनका सेना से प्रेम जगजाहिर है। धौनी ने विश्वकप में भारत के शुरूआती मैच में कीपिंग करते हुये जो दस्ताने पहने थे उनपर सेना का बलिदान चिन्ह बना हुआ था।

हालांकि आईसीसी की आपत्ति के कारण उन्हें यह चिन्ह हटाना पड़ा था। पूर्व कप्तान खुद को विंडीज दौरे से अलग कर अगस्त में सेना में ट्रेनिंग के लिये जा सकते हैं। ऐसा माना जा रहा है कि वह सियाचिन में ट्रेनिंग कर सकते हैं लेकिन अभी तक आधिकारिक तौर पर स्पष्ट रूप से कुछ भी सामने नहीं आया है। इंगलैंड में समाप्त हुये विश्वकप के बाद लगातार अटकलें आ रही थीं कि धौनी को विंडीज दौरे में टीम से बाहर रखा जा सकता है। भारत को इस दौरे में टी 20, वनडे और टेस्ट मैच खेलने हैं। विश्वकप में धौनी के प्रदर्शन की आलोचना हुयी थी और उनकी धीमी बल्लेबाजी पर सवाल उठाये गये थे।

लेकिन पूर्व कप्तान ने इन आलोचनाओं पर कोई जवाब नहीं दिया है और उन्होंने अभी तक यह भी स्पष्ट नहीं किया है कि वह संन्यास कब लेंगे। चयनकर्ता प्रमुख एमएसके प्रसाद ने हाल ही में कहा था कि धौनी सीमित ओवरों की टीम में अपने चयन को सुनिश्चित न मानें। रविवार को मुंबई में चयनकर्ताओं की टीम को चुनने के लिये बैठक होनी है। पहले यह बैठक शुक्रवार को होनी थी लेकिन भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) का संचालन देख रही प्रशासकों की समिति ने एक नये आदेश में बोर्ड सचिव को चयन समिति की बैठक बुलाने और उसमें हिस्सा लेने से रोक दिया। इस घटनाक्रम के कारण बैठक शुक्रवार से रविवार पहुंचा दी गयी।

चयनकर्ताओं और भारतीय कप्तान विराट कोहली शनिवार शाम मुलाकात कर रहे हैं और इस मुलाकात के दौरान संभवत: इस दौरे की टीम को अंतिम रूप दे दिया जाएगा। धौनी के इस दौरे से अलग हो जाने से चयनकर्ताओं के लिये एक मुद्दा तो खत्म हो गया है लेकिन दूसरा मुद्दा उनके सामने है कि टेस्ट टीम में रिद्धिमान साहा और रिषभ पंत में किसे चुना जाए। साहा कंधे की चोट के कारण कई महीने तक मैदान से बाहर रहे लेकिन फिट होकर वह आईपीएल में खेले और अब विंडीज दौरे के लिये अपना दावा पेश करेंगे। पंत ने टेस्ट टीम में अपनी जगह पक्की की है लेकिन उनसे पहले तक साहा टेस्ट टीम की कीपिंग संभाल रहे थे।

भारत के सबसे सफल कप्तान रहे धौनी की आर्मी ट्रेनिंग में जाने की मंशा से उनके संन्यास को लेकर चल रही तमाम खबरें दरकिनार हो चुकी हैं। धौनी ने अभी तक ऐसा कोई संकेत नहीं दिया है कि वह निकट भविष्य में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले सकते हैं। माना जा रहा था कि धौनी आईसीसी विश्वकप के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह देंगे, लेकिन उन्होंने इस तरह की कोई घोषणा नहीं की थी, इसके बाद चयनकर्ता प्रमुख एमएसके प्रसाद ने संकेत दिये थे कि अब धोनी का टीम में चुना जाना निर्धारित जैसा नहीं रह गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)