Sun. Aug 9th, 2020

सीबीआई की दायर चार्जशीट पर कोर्ट ने लिया संज्ञान

1 min read

नई दिल्ली : दिल्ली की राऊज एवेन्यू कोर्ट ने आईएनएक्स मीडिया डील मामले में पी. चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति चिदंबरम के खिलाफ सीबीआई की ओर से दायर चार्जशीट पर संज्ञान ले लिया है। सुनवाई के दौरान सीबीआई ने कहा कि इस मामले में 14 आरोपित हैं, जिसमें 7 लोकसेवक और 4 कंपनियां शामिल हैं।

आरोपितों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा-120बी, 420, 468, 471 और भ्रष्टाचार निरोधक कानून की धारा-9 और 13 के तहत आरोप लगाए गए हैं। सीबीआई ने कहा कि कुछ अभियुक्त जमानत पर हैं और कुछ को गिरफ्तार किया जाना बाकी है।

स्पेशल जज अजय कुमार कुहार ने कहा कि इसमें 420 का केस कैसे बनता है। तब सीबीआई ने कहा कि लोकसेवक ने आईएनएक्स मीडिया के पक्ष में फाइल की नोटिंग में बदलाव किया। आईएनएक्स मीडिया को लाभ पहुंचाने के लिए नियमों का उल्लघंन कर तय सीमा से ज्यादा एफडीआई की स्वीकृति दी गई। सीबीआई ने 18 अक्टूबर को चार्जशीट दाखिल किया था।

चार्जशीट में पी चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति चिदंबरम सहित 14 को आरोपित बनाया गया है। चार्जशीट में पीटर मुखर्जी, सीए भास्कर रमन, सिंधुश्री खुल्लर, अजीत कुमार डुंगडुंग, रविंद्र प्रसाद, प्रदीप कुमार बग्गा, प्रबोध सक्सेना और अनुपम कुमार पुजारी शामिल हैं।

जिन कंपनियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की गई है, उनमें आईएनएक्स मीडिया प्राइवेट लिमिटेड, आईएनएक्स न्यूज प्राइवेट लिमिटेड, चेस मैनेजमेंट सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड और एडवांटेज स्ट्रेटेजी कंसल्टेंसी प्राइवेट लिमिटेड शामिल हैं। पिछले 17 अक्टूबर को कोर्ट ने चिदंबरम को सीबीआई के मामले में 24 अक्टूबर तक की न्यायिक हिरासत में भेजा था। कोर्ट ने 17 अक्टूबर को इसी मामले में मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में चिदंबरम को 24 अक्टूबर तक की ईडी हिरासत में भेजा था।

shares
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)