Sat. Jan 23rd, 2021

कांग्रेस ने कृषि कानून के खिलाफ निकाली ट्रैक्टर रैली

रांची : कृषि कानून के खिलाफ झारखंड कांग्रेस की ओर से सोमवार को ट्रैक्टर रैली निकाली गई। इस ट्रैक्टर रैली में प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे, लाल किशोर नाथ शाहदेव, राजेश गुप्ता, प्रोफेशनल कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष आदित्य विक्रम जयसवाल आदि नेता शामिल हुए।

ट्रैक्टर रैली में शामिल होने के पूर्व कांग्रेस प्रवक्ताओं ने छप्पन सेट डोरंडा से ट्रैक्टर में झांकी निकाली, जिसमें बर्बाद होती मंडियों को दिखाया गया। मंडियो में आलू, प्याज, धान, गेहूँ, गन्ना को बटखरे की जगह रुपयों से तराजू में तौलते हुए दर्शाया गया है। प्रदेश प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे ने कहा कि काले कानून लागू होने से पूरे देश के किसान तबाह हो जाएंगे। बर्बादी के कगार पर आ गए हैं। पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाने की केंद्र सरकार की यह नीति भारत की अर्थव्यवस्था को पूरी तरह से नष्ट कर देगा। कांग्रेस पार्टी इस बिल के खिलाफ अपना आंदोलन जारी रखेगी।

प्रवक्ता लाल किशोर नाथ शाहदेव ने कहा कि प्रतीक के तौर पर आज हमने यह दर्शाया है कि किस प्रकार यह काला कानून पूरी मंडियों को बर्बाद कर देगा और जरूरत की चीजें ,खाने पीने की चीजों की कीमतें नियंत्रण से बाहर हो जाएंगी। राजेश गुप्ता ने कहा कि किसानों के ऊपर प्रहार अध्यादेश कभी बर्दाश्त नहीं करेंगे। यूपीए की सरकार में हमने किसानों को राहत दी थी। 70 वर्षों में किसानों ने पूरे हिंदुस्तान का पेट पालने का काम किया। आज किसानों के ऊपर प्रहार कर चारों ओर हाहाकार मच चुका है। नया कृषि कानून देश के खिलाफ है, किसानों के खिलाफ है।

आदित्य विक्रम जायसवाल ने कहा कि भारत गांवों का देश है। किसानों का देश है। 70 वर्षों में कृषि क्षेत्र ही ऐसा रहा है जो पूरी तरह से स्वतंत्र रहा और किसानों के नियंत्रण में रहा। यह पहला मौका है जब पूरी तरह किसान और खलिहान को पूंजी पतियों के हाथों में गिरवी रखने का षड्यंत्र रचा गया है, जिसे देश अच्छी तरह से समझ रहा है। बहुराष्ट्रीय कंपनियों से लेकर पूरी भारतवर्ष की संपत्तियों को यहां तक कि खेत खलिहानओं को पूंजीपति मित्रों को सौंपने का यह अनैतिक फैसला भविष्य के लिए घातक होगा।

shares
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)