Wed. Aug 12th, 2020

कांग्रेस का बिजली विभाग के अधिकारियों और केईआई कंपनी की लापरवाही के खिलाफ आंदोलन जारी

रांची : कांग्रेस ने बिजली विभाग के अधिकारियों और केईआई कंपनी की लापरवाही के खिलाफ किये जा रहे चरणबद्ध आंदोलन के दूसरे दिन शुक्रवार को भी बिजली विभाग कार्यालय के समक्ष विरोध प्रदर्शन जारी रहा।

आंदोलन के दूसरे दिन पार्टी के नेताओं कार्यकर्ताओं ने सामाजिक दूरी का पालन करते हुए राजधानी रांची स्थित कुसाई कॉलोनी डोरंडा बिजली विभाग कार्यालय के समक्ष विरोध प्रदर्शन किया एवं सोशल मीडिया फेसबुक लाइव के माध्यम से बिजली विभाग और केईआई के कुकृत्यों की जानकारी दी।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे, राजेश गुप्ता और प्रदेश कांग्रेस खेल विभाग के कोचेयरमैन अमरेंद्र सिंह के नेतृत्व में सोशल मीडिया के माध्यम से प्रदर्शन कर रहे पार्टी नेताओं ने बिजली विभाग के लापरवाह पदाधिकारियों को निलंबित करने, विभागीय कार्रवाई शुरू करने, करंट लगने से मरने वाले आम जनों और बिजली विभाग के कर्मचारियों के आश्रितों को मुआवजा दिलाने, दुर्घटना के शिकार में हो गए विकलांग एवं अपंग लोगों को मुआवजा एवं नौकरी दिलाने की मांग की। तथा विभिन्न दुर्घटनाओं में जख्मी होने वाले लोगों के इलाज का पूरा खर्च वहन करने एवं केईआई कंपनी का रजिस्ट्रेशन कैंसिल कर काली सूची में डालने एवं राजधानी रांची में करंट से हो रही मौत के जिम्मेदार मुख्य अभियंता श्रवण कुमार एवं शंभूनाथ चौधरी एवं के.के. बर्मा की गिरफ्तारी की मांग को लेकर कांग्रेस जनों ने प्रदर्शन किया।

साथ ही मुख्यमंत्री से कार्रवाई करने की मांग की है एवं कहा है कि जब तक परिवारों के आश्रितों को मुआवजा तथा आमजन हादसे की हुए शिकार लोगों की मौत की जिम्मेदारी तय नहीं हो जाती कांग्रेस का आंदोलन जारी रहेगा।

प्रवक्ताओं ने कहा कि सिर्फ लॉकडाउन अवधि में ही बिजली करंट लगने से राज्य के विभिन्न जिलों में हुई मौत का विवरण यह स्पष्ट दर्शाता है कि पूरी रिपोर्ट आने के बाद कोरोनावायरस से जितने लोगों की मौत नहीं हुई होगी। उससे ज्यादा मौत बिजली के तार से करंट लगने से हुई है। इसके पूर्व कांग्रेस ने कुसाई कॉलोनी स्थित झारखंड राज्य विद्युत बोर्ड कार्यपालक अभियंता कार्यालय के समक्ष लगभग एक घंटे तक प्रदर्शन किया एवं नारेबाजी की।

फेसबुक लाइव के माध्यम से राज्य की जनता को बिजली विभाग की लापरवाही से हो रही मौत की जानकारी दी। उसके पश्चात महाप्रबंधक कार्यालय के समक्ष भी संजय कुमार के खिलाफ नारेबाजी की एवं प्रदर्शन किया। आलोक दूबे एवं राजेश गुप्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और मंत्री रामेश्वर उराँव के नेतृत्व में राज्य ईमानदारी पूर्वक काम कर रहा है। लेकिन पूर्ववर्ती सरकार के मुखिया रघुवर दास ने अपने पांच वर्ष के कार्यकाल में जिस प्रकार से बिजली विभाग की व्यवस्था को बिगाड़ने का काम किया है।

उनके कार्यकाल में बिजली विभाग की मनमानी और भ्रष्टाचार की कारगुजारी किसी से छुपी हुई नहीं है। नई सरकार गठन के बाद व्यवस्था लाने में बदलाव लाने का प्रयास किया जा रहा है। लेकिन पिछले 20 वर्षों से जमे हुए बिजली विभाग के अधिकारी सुधरने का नाम नहीं ले रहे हैं। आज भी पेटरवार प्रखंड अंतर्गत फुलगड्ढा पंचायत के ठाकुर टोला निवासी 26 वर्षीय नरेश महतो की मौत बिजली तार के चपेट में आने से हो गई। विरोध प्रदर्शन में प्रदेश कांग्रेस कमेटी के विभय शाहदेव, सोनी नायक ,देवजीत देवघरिया, रितेश थापा, अजय सिंह, फिरोज रिजवी मुन्ना ,प्रिंस राज, राखी कौर, राजीव छेत्री, अरविंद गुरुंग, अनूप गुरुंग मुख्य रूप से उपस्थित थे।

shares
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)