Tue. Nov 24th, 2020

झारखंड में हो रहे संस्थागत भ्रष्टाचार की सीबीआई जांच कराएं मुख्यमंत्री : एबीवीपी

रांची : अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् (एबीवीपी ) के प्रदेश मंत्री राजीव रंजन देव पांडेय ने कहा कि झारखंड में हो रहे संस्थागत भ्रष्टाचार की मुख्यमंत्री सीबीआई से जांच कराये। पांडेय ने शनिवार को कहा कि माइनॉरिटी विद्यार्थियों के लिए मिलने वाले प्री मैट्रिक स्कॉलरशिप की सुनियोजित संस्थागत लूट की बात सामने आना एक बड़ी स्कॉलरशिप स्कैम की तरफ बढ़ रहा है।

जिला कल्याण पदाधिकारी, महाविद्यालय प्राचार्य और दलालों के माध्यम से एनएसपी पोर्टल के पैसे को फर्जी लाभार्थी बना कर, फर्जी अकाउंट में पैसे ट्रांसफर कर पैसे निकासी की घटना हर्षद मेहता के 1992 के फाइनेंशियल स्कैम की तरह पेचीदा और सरकारी पद का दुरुपयोग करते हुये लूट है । विद्यार्थी परिषद् मुख्यमंत्री से मांग करती है कि तत्काल वैसे सभी पदाधिकारी जिनके नाम प्रथम दृष्टया सामने आ रहे हैं सभी की तत्काल पद से बर्खास्तगी की जाए तथा सीबीआई के माध्यम से जांच कराई जाए और स्वेत पत्र जारी करते हुये स्थिति को साफ की जाए।

उल्लेखनीय है कि इस घटना को प्रकाश में आए कई दिन हो गए मगर एक भी गिरफ्तारी नहीं होना और ढुल मूल तरीके से जांच की तरफ बढ़ना सरकार की विद्यार्थियों के प्रति सजगता पर भी प्रश्न चिन्ह उठाते हैं । लगभग 107 लोगों का नाम आना, 100 के लगभग महाविद्याल के प्राचार्य की संलिप्तता चतरा जिला के मो० सिद्दीकी जैसे प्रमुख सूत्रधार का नाम सामने आना, 10 करोड़ के लगभग की लूट और बस एफआईआर के बाद शांति चिंता का विषय है।

अभाविप सरकार से मांग करती है कि इस तरह की घटना की पुनरावृत्ति ना हो एवं राज्य की सभी जिलों में स्कॉलरशिप की स्थिति पर जांच करते हुये दोषी पदाधिकारियों को कड़ी सजा दी जाए ।

shares
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)