Sat. Oct 31st, 2020

भाजपा सांसद निशिकांत दूबे के सर्टिफिकेट की करायी जाये जांच : झामुमो

रांची : झामुमो ने भाजपा सांसद निशिकांत दुबे के सर्टिफिकेट की जांच कराने की मांग की है। इस सिलसिले में पार्टी की ओर से चुनाव आयोग को पत्र भेजा गया है। झामुमो ने कहा है कि खुद निशिकांत दूबे ने अपने शपथ पत्र में कहा है कि वह दस वर्ष की उम्र में मैट्रिक की परीक्षा पास कर लिये थे।

झामुमो ने कहा है कि इसकी जांच होनी चाहिए और लोकसभा सदस्यता की वैधता पर विचार किया जाये। झामुमो के केंद्रीय महासचिव सह प्रवक्ता सुप्रियो भट्टाचार्य ने सोमवार को मुख्य निर्वाचन आयुक्त को लिखे पत्र में बताया कि गोड्डा लोकसभा क्षेत्र से लगातार तीन बार से विजयी सांसद डॉ. निशिकांत दूबे ने नामांकन पत्र में 2009 में अपनी उम्र 37 वर्ष अंकित किया है।

इस नामांकन पत्र में शैक्षणिक योग्यता के तौर पर पर उन्होंने यह जानकारी दी कि वे अपनी मैट्रिक की परीक्षा डीपीएम हाईस्कूल करहरिया, बिहार स्कूल इक्जामिनेशन बोर्ड से 1982 में पास की है तथा वे स्नातकोत्तर हैं तथा एमबीए दिल्ली यूनिवर्सिटी से वर्ष 1993 में किया है।

सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि वर्ष 2009 में 37वर्ष उम्र वाले निर्वाचित सांसद अपने कथनानुसार 10वर्ष की आयु में ही मैट्रिक की परीक्षा कर जाते है, वहीं दूसरी ओर दिल्ली विश्वविद्यालय ने सूचना के अधिकार कानून के तहत मांगी गयी जानकारी में यह कहा है कि वर्ष 1993 में निशिकांत दूबे नाम का कोई भी व्यक्ति न वहां दाखिल लिया है और न ही पास आउट हुआ है।

इसलिए विगत 2009 से लेकर 2019 तक के तीन लोकसभा चुनाव में उनके नामांकन पत्र की गहन जांच कर उनकी सदस्यता के वैधता पर विचार करने का आग्रह है। उन्होंने बताया कि निशिकांत दूबे द्वारा नामांकन पत्र में दाखिल शपथ के अनुसार 37 साल की उम्र होने के कारण उनका जन्म 1972 में किसी मास या तिथि में हुआ होगा, जिसकी जानकारी सार्वजनिक की जानी चाहिए, ताकि 10वर्ष की उम्र में मैट्रिक पास करने वाले गौरवमयी प्रतिभा से देश अवगत हो सके।

shares
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)