Tue. Jan 26th, 2021

बिजली कटौती को बंद कराने के लिए डीवीसी के एसई से मिला आजसू का प्रतिनिधिमंडल

रामगढ़ : जिले में बिजली कटौती से लोग परेशान हैं। इस परेशानी को दूर करने के लिए बुधवार को आजसू का प्रतिनिधिमंडल दामोदर वैली कारपोरेशन के सुपरीटेंडिंग इंजीनियर से मिला। इस मौके पर आजसू के जिला प्रवक्ता सुरेंद्र महतो ने साफ तौर पर कहा कि बिजली की कटौती शहर में 8 से 10 घंटे हो रही है। ऐसी स्थिति में व्यापारी, छात्र और आम नागरिक काफी परेशान हैं।

ना तो सही तरीके से ऑनलाइन क्लासेस हो पा रही है, और ना ही व्यापार की स्थिति अच्छी रही है। कोविड की वजह से पहले ही लोगों की कमर टूट चुकी है। ऐसी विषम परिस्थिति में बिजली कटौती ने लोगों की समस्या और अधिक बढ़ा दी है। जिले में हजारों ऐसे दुकान हैं, जिसका संचालन बिजली के बिना नहीं हो सकता है। यहां तक कि शैक्षणिक संस्थानों में भी बिजली बहुत ही महत्वपूर्ण है। खासकर वर्तमान परिवेश में बच्चों को पढ़ाने के लिए भी बिजली की भूमिका अहम है।

ऐसी स्थिति में डीवीसी ने बिजली कटौती शुरू कर दी है। उनकी वजह से लोगों को अंधेरे में रात गुजारनी पड़ रही है। बिजली गुल होने की वजह से अपराधियों का मनोबल भी बढ़ रहा है। चोर उचक्के इस अंधेरे का लाभ उठाकर लोगों का घर खाली कर दे रहे हैं। आजसू नेता पंकज वर्णवाल ने कहा कि अगर डीवीसी जल्द ही इस समस्या का निदान नहीं निकालता है तो आजसू पार्टी सड़क पर उतरकर आंदोलन करेगी।

उन्होंने कहा कि डीवीसी की आड़ में झारखंड बिजली बोर्ड के अधिकारी भी लोगों की समस्या और बढ़ा दे रहे हैं। बुधवार को जब डीवीसी के अधिकारियों के साथ आजसू के प्रतिनिधि मंडल की वार्ता हुई तो उसमें बताया गया कि डीवीसी से 4 घंटे ही बिजली कटौती कर रहा है। 15 दिनों में जितनी बिजली काटी गई है, उसकी टाइमिंग भी डीवीसी ने सार्वजनिक की है। ऐसी स्थिति में उससे अधिक जो बिजली काटी जा रही है उसकी भजन झारखंड बिजली बोर्ड ही है।

डीवीसी के सुपरीटेंडिंग इंजीनियर अनुज कुमार ने कहा कि कंपनी का झारखंड सरकार पर कुल बकाया 4920 करोड़ हो गया है। ऐसी स्थिति में वह रकम वसूलने के लिए बिजली कटौती शुरू की गई है। इस कटौती को दूर करने के लिए झारखंड सरकार को ही पहल करनी होगी, ताकि लोगों की समस्याएं जल्द से जल्द दूर हो सके।

shares
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)