Sun. Sep 27th, 2020

स्वतंत्रता दिवस से पहले पाक ने रिहा किये 30 भारतीय कैदी

1 min read

14 अगस्त, 2018

चंडीगढ़ : पाकिस्तान ने सोमवार को स्वतंत्रता दिवस से पहले सद्भावना के तहत 26 मछुआरों समेत 29 भारतीय कैदियों को रिहा किया है। पाकिस्तान विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘यह 14 अगस्त को देश के स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य में एक मानवीय पहल है।’ सभी रिहा भारतीय अटारी-वाघा सीमा से भारत में प्रवेश कर गये। मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, ‘यह मानवीय मुद्दों का राजनीतिकरण नहीं करने की पाकिस्तान की सतत नीति है। हमारी उम्मीद है कि भारतीय पक्ष भी इसी तरह से कैदियों को छोड़ेगा।’ इन भारतीय मछुआरों को मछली पकड़ने के लिए पाकिस्तान के जलक्षेत्र में घुसने के बाद गिरफ्तार किया गया था और इन्हें बंदरगाह शहर कराची की जेल से रिहा किया गया।

470 से ज्यादा भारतीय कैदी हैं बंद
जुलाई में देश के सुप्रीम कोर्ट के समक्ष प्रस्तुत एक सरकारी रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तानी जेलों में 418 मछुआरों सहित 470 से ज्यादा भारतीय कैदी बंद है। रविवार को बताया गया कि मछुआरों को अधिकारियों ने पाकिस्तान के क्षेत्रीय जल में कथित रूप से उल्लंघन करने के लिए गिरफ्तार किया था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, उन्हें कराची की मालीर जेल से कैंट रेलवे स्टेशन में शिफ्ट कर दिया गया है, अब उन्हें लाहौर ले जाया जाएगा। इसके बाद सभी कैदियों को वाघा बॉर्डर पर भारतीय सीमा अधिकारियों के हवाले सौंप दिया जाएगा।

अक्सर मछुआरे होते हैं गिरफ्तार
बता दें कि पाकिस्तान और भारत दोनों ही अक्सर मछुआरों को गिरफ्तार कर लेते हैं क्योंकि अरब सागर में समुद्र का कोई स्पष्ट सीमा नहीं है। इन मछुआरों के पास समुद्री इलाके में सटीक बॉर्डर को जानने के लिए तकनीक से लैस नौकाएं भी नहीं हैं। लंबी और धीमी कानूनी प्रक्रियाओं के कारण, मछुआरे आमतौर पर कई महीनों तक जेल में रहते हैं लेकिन समय-समय पर दोनों ही देश सद्भावना के रूप में उन मछुआरों को रिहा कर देते हैं।

shares
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)