Sat. Oct 31st, 2020

महाराष्ट्र के 286 विधायकों ने ली पद एवं गोपनीयता की शपथ

1 min read

मुंबई : महाराष्ट्र विधानसभा के 288 विधायकों में से 285 ने बुधवार को पद एवं गोपनीयता की शपथ ली। भाजपा विधायक कालिदास कोलंबकर को प्रोटेम स्पीकर के रूप में राज्यपाल भगतसिंह कोश्यारी राजभवन में मंगलवार को ही शपथ दिला चुके हैं। भाजपा के सुधीर मुनगंटीवार और देवेंद्र भूयार आज शपथ नहीं ले सके हैं, जिनको बाद में विधानसभा सचिवालय में शपथ दिलाई जाएगी। विधानसभा चुनाव के परिणाम 24 अक्टूबर को घोषित होने के बाद से राज्य में चल रहे राजनीतिक गतिरोध के कारण नवनिर्वाचित सदस्यों को शपथ नहीं दिलाई जा सकी थी।

पूर्व उपमुख्यमंत्री अजीत पवार एनसीपी विधायकों के साथ बैठे थे। नवनिर्वाचित 281 सदस्यों ने सदन में शपथ ली, जबकि कुछ देर बाद राम कदम, लखन मलिक, इस्माईल शेख और महेश वाल्डे ने प्रोटेम स्पीकर के कार्यालय में शपथ ली। सदन में भाजपा सदस्य संजीव रेड्डी ने संस्कृत भाषा में शपथ ग्रहण किया। सपा सदस्य अबू आसिम आजमी, अमीन पटेल व फारुख शाह ने हिंदी, भाजपा सदस्य कुमार आयलानी ने सिंधी भाषा में पद एवं गोपनीयता की शपथ ली। इसके साथ ही मुस्लिम वर्ग से आने वाले सात विधायकों ने अल्लाह के नाम पर शपथ ग्रहण किया। इसके साथ ही एनसीपी सदस्य जीतेंद्र आव्हाड ने अपनी मां के नाम पर शपथ ग्रहण किया। शपथ ग्रहण का कार्य समाप्त होने के बाद सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी गयी है।

शिवसेना गठबंधन को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत

शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के गठबंधन को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत मिली है। शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस द्वारा महाराष्ट्र में सरकार बनाने के खिलाफ दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने जल्द सुनवाई से इनकार कर दिया है। कोर्ट ने कहा कि इस मामले में जल्द सुनवाई की जरूरत नहीं है। महाराष्ट्र के निवासी सुरेंद्र इंद्रबहादुर सिंह ने याचिका दायर कर कहा है कि महाराष्ट्र की जनता ने बीजेपी-शिवसेना गठबंधन के समर्थन में वोट दिया था। याचिका में कहा गया है कि कोर्ट महाराष्ट्र के राज्यपाल को निर्देश दे कि वह इन गठबंधन को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित नहीं करें।

shares
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)