मक्का में हज यात्रा के दौरान 550 तीर्थयात्रियों की मौत, पारा 50 डिग्री पार

Hajj Yatra 2024: हज यात्रा के दौरान कम से कम 550 तीर्थयात्रियों की मौत हो गई. मृतकों में 323 मिस्र के नागरिक थे. दो अरब राजनयिकों ने एएफपी को जानकारी दी कि अधिकांश की मौत गर्मी से संबंधित बीमारियों के कारण हुई.

एक डिप्लोमेट ने बताया, ‘उनमें से सभी (मिस्र के लोग) गर्मी के कारण मरे, सिवाय एक शख्स के जो भीड़ में घातक रूप से घायल हो गया था.’  उन्होंने बताया कि कुल आंकड़े मक्का के पास अल-मुआइसिम में स्थित अस्पताल के मुर्दाघर से हासिल हुए हैं.

राजनयिकों ने बताया कि कम से कम 60 जॉर्डन के लोगों की भी मौत हुई है. मंगलवार को अम्मान द्वारा आधिकारिक तौर पर 41 लोगों की मौत की जानकारी दी गई थी.

एएफपी की रिपोर्ट के अनुसार, इन नई मौतों के साथ ही कई देशों द्वारा अब तक बताई गई कुल मौतों की संख्या 577 हो गई.

हज इस्लाम के पांच स्तंभों में से एक है और सभी मुसलमानों को कम से कम एक बार हज अवश्य करना चाहिए.

गर्मी की मार
पिछले महीने प्रकाशित एक सऊदी अध्ययन के अनुसार, हज यात्रा पर जलवायु परिवर्तन का प्रभाव पड़ रहा है. जिस क्षेत्र में धार्मिक अनुष्ठान किए जाते हैं, वहां का तापमान हर दशक में 0.4 डिग्री सेल्सियस (0.72 डिग्री फ़ारेनहाइट) बढ़ रहा है.

सऊदी राष्ट्रीय मौसम विज्ञान केंद्र ने कहा कि सोमवार को मक्का की ग्रैंड मस्जिद में तापमान 51.8 डिग्री सेल्सियस (125 फ़ारेनहाइट) तक पहुंच गया.

2000 से अधिक तीर्थयात्रियों का इलाज
सऊदी अधिकारियों ने गर्मी से पीड़ित 2,000 से अधिक तीर्थयात्रियों का इलाज किए जाने की सूचना दी. हालांकि रविवार से इस आंकड़े को अपडेट नहीं किया है और मौतों के बारे में जानकारी नहीं दी गई.

तीर्थयात्रियों को अपने सिर पर बोतलों से पानी डालते हुए देखा गया. वालंटियर्स उन्हें गर्मी से राहत के लिए कोल्ड ड्रिंक और चॉकलेट आइसक्रीम देते नजर आए.

सऊदी अधिकारियों ने तीर्थयात्रियों को छाते का उपयोग करने, खूब पानी पीने और दिन के सबसे गर्म घंटों के दौरान धूप में निकलने से बचने की सलाह दी थी.

शनिवार को माउंट अराफात पर हुई प्रार्थनाओं सहित कई हज अनुष्ठानों में तीर्थयात्रियों को दिन के समय घंटों बाहर रहना पड़ा.

कुल इतने तीर्थयात्रियों ने हज यात्रा की
सऊदी अधिकारियों के अनुसार, इस वर्ष लगभग 1.8 मिलियन तीर्थयात्रियों ने हज में भाग लिया, जिनमें से 1.6 मिलियन विदेश से थे.

इंडोनेशिया, ईरान और सेनेगल ने भी हज के दौरान उनके देशों के लोगों की मौत की सूचना दी. लेकिन अधिकांश देशों ने यह नहीं बताया कि कितनी मौतें गर्मी की वजह से हुई.

अनियमित यात्री
हर साल हजारों तीर्थयात्री अनियमित चैनलों के जरिए हज करने की कोशिश करते हैं क्योंकि वे आधिकारिक हज वीजा के लिए अक्सर महंगी प्रक्रियाओं का खर्च नहीं उठा सकते.

इन गैर-बुक तीर्थयात्रियों के लिए जोखिम अधिक होता है क्योंकि वे हज रूट पर सऊदी प्रशासन की ओर से प्रदान की गई एयर-कंडीशन सुविधाओं का उपयोग नहीं कर सकते.

एएफपी के मुताबिक देश के हज मिशन की निगरानी करने वाले एक मिस्र के अधिकारी ने कहा, ‘अनियमित तीर्थयात्रियों ने मिस्र के तीर्थयात्रियों के शिविरों में बहुत अव्यवस्था पैदा की, जिससे सेवाएं ठप हो गईं.’

इस महीने की शुरुआत में, सऊदी अधिकारियों ने कहा था कि उन्होंने हज से पहले मक्का से सैकड़ों हज़ारों अपंजीकृत तीर्थयात्रियों को निकाल दिया था.

सऊदी के स्वास्थ्य मंत्री का दावा
आधिकारिक सऊदी प्रेस एजेंसी के मुताबिक सऊदी स्वास्थ्य मंत्री फहद बिन अब्दुल रहमान अल-जलाजेल ने मंगलवार को कहा कि हज के लिए स्वास्थ्य योजनाओं को ‘सफलतापूर्वक लागू किया गया, जिससे बीमारी के बड़े प्रकोप और अन्य सार्वजनिक स्वास्थ्य खतरों को रोका जा सका.

 

You May Also Like

More From Author

+ There are no comments

Add yours