Sun. Jul 5th, 2020

झारखंड में लॉकडाउन में छूट के बाद से ही बढ़ रहा है कोरोना संक्रमण

कोरोना पॉजिटिव मरीजों के कांटेक्ट ट्रेसिंग में बढ़ी परेशानी

घरों में नहीं मिलते कोरोना पॉजिटिव के सीधे संपर्क के लोग

रांची : झारखंड में लॉकडाउन में छूट के बाद से ही राज्य में कोरोना संक्रमण बढ़ रहा है। कोरोना पॉजिटिव मरीजों के कांटेक्ट ट्रेसिंग में स्वास्थ्य कर्मियों की भी परेशानी बढ़ गयी है।

संपूर्ण लॉकडाउन में लोग घरों में ही रहते थे, जिससे स्वास्थ्य कर्मियों को पाये गये कोरोना पॉजिटिव मरीज के परिजन, पास पड़ोस के लोगों, दोस्तों की कांटेक्ट ट्रेसिंग में पहले दिक्कत नहीं होती थी। जबसे लॉकडाउन में छूट मिली है, तब से परिजन सहित अन्य करीबी लोग कांटेक्ट ट्रेसिंग पर जाने वाले स्वास्थ्य कर्मियों को नहीं मिलते हैं। इनमें से कई काम पर चले जाते हैं, तो कोई बिजनेस के सिलसिले में सुबह से ही घर से निकल जाते हैं। ऐसी स्थिति में स्वास्थ्य कर्मियों को कांटेक्ट ट्रेसिंग में परेशानी बढ़ गयी है।

जिससे कोरोना पॉजिटिव मरीज के सीधे संपर्क के लोग भी जांच से वंचित रह जाते हैं। और नतीजा दूबारा उसी जगह से कोरोना का केस मिलते हैं। जानकारों का कहना है कि इससे कम्यूनिटी स्प्रेड का खतरा बढ़ रहा है। वहीं कई लोग क्वारेंटाइन होने के डर से भी जांच के लिए सामने नहीं आते। कोरोना के प्रति अधिकांश लोग पूरी तरह जागरुक होने के बावजूद सरकार द्वारा जारी गाइड लाइन का पालन नहीं कर रहे हैं। ज्यादातर लोग सोशल डिस्टेंसिंग का खुला उल्लघंन कर रहे हैं।

मार्केट में जरुरी सामान खरीददारी के लिए दुकानों पर भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो रहा है। और न ही लोग मॉस्क लगा रहे हैं। इसमें सबसे ज्यादा युवा वर्ग मोटरसाइकिल पर तीन सवारी बिना हेलमेट, मॉस्क के घूमते देखे जा रहे हैं।
सख्ती जरूरी
झारखंड में कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण के लिए सरकार को सख्ती बरतनी होगी। जानकारों का कहना है कि पहले लोग बेधड़क टै्रफिक सिग्नल को तोड़ कर निकल जाते थे,

जबसे पुलिस प्रशासन ने ट्रैफिक सिग्नल को तोड़ कर निकलने वाले लोगों पर जुमार्ना लेने का सिस्टम लागू किया है, तभी से अब हर वाहन चालक चौक चौराहों पर ट्रैफिक सिग्नल के लाल बत्ती पर रुकते हैं और हरी बत्ती जलने पर ही चौक से गुजरते हैं।

उसी प्रकार सोशल डिस्टेसिंग का पालन नहीं करने वालों और मॉस्क नहीं पहनने वालों पर जुमार्ने का सिस्टम लागू करें तो कोरोना गाइड लाइन का लोग स्वत: पालन करने लगेंगे। सरकार एक ओर कोरोना संक्रमण से बचाव एवं इलाज पर करोड़ो रुपये खर्च कर रही है। वहीं जागरुकता के बावजूद लोग कोरोना गाइड लाइन का पालन नहीं कर रहे हैं। इससे राज्य में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं।

shares
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)