देश

राज्य ज्वाइंट इंट्रेंस बोर्ड ने उठाया कड़ा कदम

परीक्षा केन्द्र में मोबाइल पर्यवेक्षकों तथा केन्द्र प्रभारियों को रेडियो फ्रीक्वेंसी डिटेक्टर दिया जायेगा
 21.05.2019

दुर्गापुर : परीक्षा के दौरान चोरी छिप मोबाइल ले जाने वाले परीक्षार्थियों पर नकेल कसने के लिए राज्य ज्वाइंट इंट्रेन बोर्ड ने कड़ा कदम उठाया है। इस बार परीक्षा केन्द्र में मोबाइल पर्यवेक्षकों तथा केन्द्र प्रभारियों को रेडियो फ्रीक्वेंसी डिटेक्टर(आरएफडी) दिया जायेगा। परीक्षा के दौरान मोबाइल एवं इलेक्ट्रानिक उपकरण ले जाने पर रोक है। लेकिन अब परीक्षा में चोरी-छिपे मोबाइल का उपयोग न हो, इसके लिए यह कदम उठाया जा रहा है। इस वर्ष आगामी 26 मई को ज्वाइंट इंट्रेंस की परीक्षा होनेवाली है। बोर्ड सूत्रों के अनुसार इस बार पिछले वर्ष की तुलना में परीक्षार्थियों की संख्या घटी है। बीते वर्ष एक लाख 25 हजार से अधिक परीक्षार्थी थे। पिछले वर्ष 339 केन्द्रों पर परीक्षा हुयी थी। इस बार परीक्षार्थियों की संख्या कम होने से परीक्षा केन्द्र भी 300 हो गये हैं। इन केन्द्रों के लिए 425 पर्यवेक्षक, 85 मोबाइल पर्यवेक्षक तैनात रहेंगे। प्रत्येक मोबाइल पर्यवेक्षक के पास आरए़फड़ी रहेगा।

एक मोबाइल पर्यवेक्षक के अधीन में अधिकतम पांच परीक्षा केन्द्र रहेंगे। वहीं एक से अधिक केन्द्र की जिम्मेदारी रहने के कारण मोबाइल पर्यवेक्षक एक केन्द्र पर अधिक समय नहीं दे पाते थे। वहीं अगर कोई परीक्षार्थी मोबाइल लेकर गया है, तो पकड़ में नहीं आता था। अब केन्द्र प्रभारियों के पास भी आरएफडी रहेगा, जिससे कोई भी परीक्षार्थी मोबाइल लेकर जाता है तो वह पकड़ में आ जायेगा। अगर परीक्षा केन्द्र अंदर कोई भी मोबाइल चालू करता है तो इस यंत्र में लालबत्ती जलने लगेगा।

वहीं इस बार परीक्षार्थी घड़ी पहनकर भी परीक्षा केन्द्र में नहीं जा पायेंगे। बोर्ड की ओर से प्रत्येक परीक्षा केन्द्र में घड़ी रखने का इंतजाम किया गया है। बोर्ड के सदस्य, मोबाइल पर्यवेक्षक एवं केन्द्र प्रभारियों को ही मोबाइल प्रयोग की अनुमति रहेगी। इन्हें बोर्ड की ओर से विशेष परिचय पत्र भी जारी किया जायेगा।