देश

23 मई को आने वाला जनादेश स्वीकार है : जितेन्द्र तिवारी

एक्जिट पोल पर विश्वास करने की कोई बात ही नहीं
22.05.2019

दुर्गापुर : औधोगिक शहर दुर्गापुर अनुमंडल के पांडेश्वर के विधायक और आसनसोल नगर निगम के मेयर जितेन्द्र तिवारी ने आज मंगलवार को एक्जिट पोल पर अपनी प्रतिक्रि या में कहा कि यह प्रायोजित एक्जिट पोल है।

इस हमारी नेत्री और राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनजी भरोसा नहीं करती हैं। यह विश्वास करने लायक है ही नहीं। इससे सट्टा बाजार चमक गया है, सेंसेक्स ऊपर चला गया है जिससे देश की अर्थ व्यवस्था चरमरा गयी है। एक्जिट पोल के आये नतीजे अधिकृत चुनाव नतीजे नहीं हैं। पहले भी चुनावी एक्जिट पोल के नतीजे आये थे और जब ईवीएम से नतीजे निकले तो तमाम एजेंसियों और टीवी चैनलों द्वारा पेश किये गये एक्जिट पोल के पोल खुल गये। एक्जिट पोल ही अंतिम रजिल्ट है क्या। 2019 मई के सातवें चरण के मतदान के चंद सेकेंड बाद ही देश – विदेशों को एक्जिट पोल के जरिये बता देना कि किस राजनीतिक दल को कितनी सीटें मिल रही है यह कैसे संभव है, मुझे नहीं मालूम। हो सकता है एक्जिट पोल दिखाने वाले प्राकांड पंडित या महान ज्योतिष हों । उनके पास कोई जादुई छड़ी हो तभी संभव है।

मेयर सह विधायक ने आगे कहा कि हमारी मुख्यमंत्री ने एक्जिट पोल पर अपना बयान दे दिया है । जिसपर हमलोग कायम हैं। जितेन्द्र तिवारी ने उदाहरण के तौर पर बताया कि पांडेश्वर के किसी दो या तीन गांव में 19 मई की देर शाम तक कई हजार वोटरों ने वोट डाले,तो वहां पर किस दल को कितने प्रतिशत वोट मिले इसका पता किस माध्यम से एग्जिट पोल दिखाने वालों को मिल गया, जबकि सरकारी एजेंसी को कुछ देर मिला। 23 मई को अधिकृत चुनाव नतीजे आने पर आपकी प्रतिक्रि या क्या है। इस सवाल पर जितेन्द्र तिवारी ने कहा कि जनता के जनादेश को मां – माटी – मानुष जैसे स्वीकार करेगी वैसे सभी राजनैतिक दलों को भी स्वीकार कर लेना चाहिये। हम तो स्वीकार करेंगे, लेकिन पारदर्शिता होनी चाहिये। चुनाव नतीजों से न खिलवाड़ होनी चाहिये न कोई साजिश न हेरफेर।

प्रतिविम्ब की तरह नतीजे निकलनी चाहिये। क्योंकि भाजपा और केन्द्र की सरकार पर यह आरोप लगने लगे हैं कि , एस सोची समझी रणनीति और बड़ी साजिश के तहत ईवीएम मशीनों के साथ छेड़छाड़ की गयी है और 23 मई के पहले तक बंगाल सहित पूरे देश में यह खेल जारी है। यही कारण है कि एक्जिट पोल भाजपा को फिर से केन्द्र की सत्ता में आते दिखा रहा है। फिर भी हम आशानान्वित हैं , बंगाल में तृणमूल कांग्रेस की सुप्रीमो ममता बनजी ही होगी। क्योंकि हमारी सरकार जन – गण की सरकार है और हमने जनता की कसौटी पर अपने को सही पाया है। पांडेश्वर के विधायक और आसनसोल के प्रथम नागरिक होने के नाते 23 मई को लोकसभा के चुनावी नतीजे आने के बाद आप दुर्गापुर और आसनसोल के नागरिकों को क्या संदेश देंगे। इस सवाल के जवाब में जितेन्द्र तिवारी ने कहा कि , दोनों शहर अपने हैं, यहां की मिट्टी अपनी है, यहां के हर भाषा-भाषी के लोग अपने हैं । इसलिये सभी सौहाद्र और भाईचारे का वातावरण बनाये रखें। चुनाव होते रहेंगे, हमें यहीं रहना है, पांडेश्वर के विधायक का यही संदेश है।

गौरतलब है कि आसनसोल नगर निगम के पहली बार हिन्दी भाषी मेयर और दुर्गापुर अनुमंडल के पांडेश्वर विधानसभा से भी पहली बार विधायक चुने गये जितेन्द्र तिवारी आसनसोल जिला अस्पताल के सीनियर एडवोकेट रह चुके हैं।

तृणमूल कांग्रेस की सुप्रीमो ममता बनजी के चहेतों में शामिल जितेन्द्र तिवारी को हर चुनाव में चुनाव प्रचार की बड़ी जिम्मेदारी दी जाती है।