देश

बालिका गृह में गाये विदाई के गीत, किये हाथ पीले

15.05.2019

बूंदी : माता-पिता की मौत के बाद वर्ष 2014 से नैनवां रोड स्थित तेजस्विनी बालिका आवास गृह में रह रही रानी प्रजापति का मंगलवार को आवास गृह प्रबंधन की ओर से विवाह कराया गया। शहर में किसी बालिका आवास गृह द्वारा अपने यहां रहने वाली युवती का विवाह कराने का यह पहला मामला है। शहर के गीता भवन में आर्य समाज के रीति-रिवाजों के अनुसार यह मांगलिक आयोजन संपन्न हुआ। इस दौरान विवाह की रस्मों के गीत गाये तथा रानी के हाथ पीले कर नम आंखों के साथ विदाई दी गई।

रानी का विवाह निवासी कालू प्रजापत के साथ संपन्न हुआ। तेजस्विनी बाल गृह बालिका गृह की संचालिका मृदुला औदिच्य ने रानी का कन्यादान किया। समाजसेवी रेखा शर्मा ने बताया कि रानी को मातापालन तथा पढ़ाई-लिखाई हुई। उसके बालिग के बाद बालिका आवास गृह प्रशासन ने उसकी शादी कराई। संचालिका मृदुला औदिच्य ने कहा कि आवासगृह में रहने वाली बालिकाओं के लिए वो और यहां का स्टाफ माता-पिता की तरह हैं। ऐसे में किसी बालिका के बालिग होने पर पिता की मौत के बाद अन्य कोई सहारा नहीं होने से पांच वर्ष वर्ष पूर्व तेजस्विनी बालिका आवास गृह में लाया गया था।

यहीं उसका लालन-पालन हुआ और अब लोगों के सहयोग से उनका विवाह कराना हमारा सौभाग्य है। इस नेक काम में इनरव्हील क्लब ,बाल कल्याण समिति, रोटरी क्लब, जेसीआई बूंदी ऊर्जा और अन्य संगठनों की ओर से मदद की गई। कासट, साधना श्रंगी, कुलजीत कौर, साधना न्याति, ख्याति भंडारी, उमा माहेश्वरी, श्वेता भंडारी, सुमित्रा ओझा, विमलेश सोनी, सरोज न्याति कई लोग इस विवाह समारोह के साक्षी बने। सभी लोगों ने नवदम्पति को आशीर्वाद देकर भावी जीवन के लिए शुभकामनाएं दी।